Home » Latest » मैं रोटी और कपड़ों में उलझा रहा, और एक फरेबी ने मेरा वतन बेच डाला.
Rukhsar Shayari in Hindi

मैं रोटी और कपड़ों में उलझा रहा, और एक फरेबी ने मेरा वतन बेच डाला.

Rukhsar Shayari in Hindi

सर्वोच्च न्यायालय के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने निम्न नज़्म उपलब्ध कराई है। यह नज़्म आज के दौर में भी मौजूँ है। शायर का नाम अज्ञात है।

ऐ वतन कैसे ये धब्बे दर-ओ-दीवार पर हैं ?

किस साकी के ये तमाचे तेरे रुखसार पर हैं ?

ए वतन तेरा ये उतरा हुआ चेहरा क्यूँ है ?

दर्द पलकों से लहू बनके छलकता क्यूँ है ?

इतनी वीरान तो कभी सुबह बयाबाँ न थी ?

कोई साथ कभी इस दर्ज बुरे ज़मीन पे न थी.

ज़मीन बेच डाला,

ज़मन बेच डाला,

लहू बेच डाला,

बदन बेच डाला,

और किया मेरे गुलशन की हर शै का सौदा,

शजर बेच डाला

चमन बेच डाला,

और जो किए थे ज़मीन-ओ-मकानों के वादे,

मेरी जा-ए- मरकत कफ़न बेच डाला,

मैं रोटी और कपड़ों में उलझा रहा,

और एक फरेबी ने मेरा वतन बेच डाला.

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

two way communal play in uttar pradesh

उप्र में भाजपा की हंफनी छूट रही है, पर ओवैसी भाईजान हैं न

उप्र : दुतरफा सांप्रदायिक खेला उत्तर प्रदेश में भाजपा की हंफनी छूट रही लगती है। …

Leave a Reply