Home » Latest » रेलगाड़ियों के लिए प्रतीक्षा सूची : मीडिया ने फैलाई अफवाह, रेलवे ने कहा प्रतीक्षा सूची हमेशा बनी रहेगी
Indian Railways Hindi News

रेलगाड़ियों के लिए प्रतीक्षा सूची : मीडिया ने फैलाई अफवाह, रेलवे ने कहा प्रतीक्षा सूची हमेशा बनी रहेगी

Rumours spread by media about the waiting list for trains, the railway said waiting list will always remain

नई दिल्ली, 20 दिसंबर 2020. राष्‍ट्रीय रेल योजना के प्रारूप (Indian Railways issues draft National Rail Plan,) को व्‍यापक कवरेज देते हुए तथाकथित मुख्यधारा का मीडिया सरकार की चापलूसी में इतना आगे चला गया कि वह रेलगाड़ियों के लिए प्रतीक्षा सूची को लेकर अफवाह (Rumor about waiting list for trains) फैलाने लगा कि 2024 से कोई प्रतीक्षा सूची नहीं होगी या 2024 तक केवल कंफर्म टिकटें ही उपलब्‍ध होंगी। अब रेलवे ने बाकायदा इस अफवाह का खंडन किया है।

2024 से रेलगाड़ियों के लिए प्रतीक्षा सूची के बारे में प्रकाशित की जा रही खबरों के संबंध में स्‍पष्‍टीकरण जारी करते हुए रेलवे की विज्ञप्ति में कहा गया है कि

“विभिन्‍न समाचार पत्रों एवं ऑनलाइन प्रकाशनों ने राष्‍ट्रीय रेल योजना के प्रारूप को व्‍यापक कवरेज दिया है।“

विज्ञप्ति में कहा गया है

“कुछ खबरों के अनुसार ऐसा प्रतीत होता है कि रेलवे ने कहा है कि 2024 से कोई प्रतीक्षा सूची नहीं होगी या 2024 तक केवल कंफर्म टिकटें ही उपलब्‍ध होंगी।“

Indian railways news in hindi | Indian Railways Hindi News

रेलवे ने स्पष्ट किया है,

“रेलवे यह बताना और स्‍पष्‍ट करना चाहेगी कि रेलगाड़ियों को मांग के अनुसार उपलब्‍ध कराने के लिए क्षमता बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं। इससे यात्रियों के लिए प्रतीक्षा सूची में आने की संभावना कम हो जाएगी। प्रतीक्षा सूची एक ऐसा प्रावधान है जो हमेशा बनी रहती है जब किसी रेलगा‍ड़ी में यात्रियों द्वारा की गई मांग बर्थ या उपलब्‍ध सीटों की संख्‍या से अधिक होती है। इस प्रावधान को समाप्‍त नहीं किया जा रहा है। ‘प्रतीक्षा सूची’ एक ऐसा प्रावधान है जो मांग एवं उपलब्‍धता में उतार-चढ़ाव को कम करने के लिए एक बफर के रूप में कार्य करती है।“

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Demonstrations held in many places in Chhattisgarh against anti-agricultural laws

कृषि संकट से आंख चुराने वाला बजट — किसान सभा

छत्तीसगढ़ बजट 2021-22 : किसान सभा की प्रतिक्रिया Chhattisgarh Budget 2021-22: Response of Kisan Sabha …

Leave a Reply