किसान सभा ने किया 8 जनवरी को ग्रामीण भारत बंद’ का आह्वान

Kisan Sabha

किसान सभा ने किया 8 जनवरी को ग्रामीण भारत बंद’ का आह्वान

रायपुर, 30 नवंबर 2019. अखिल भारतीय किसान सभा और आदिवासी अधिकार राष्ट्रीय मंच ने देश में बढ़ते कृषि संकट, ऋणग्रस्तता के कारण बढ़ती किसान आत्महत्याओं, वनाधिकारों पर हमले, प्राकृतिक संसाधनों की लूट, मंदी के कारण ग्रामीण अर्थव्यवस्था की बदहाली, बेरोजगारी और लाभकारी समर्थन मूल्य न दिए जाने के खिलाफ आगामी 8 जनवरी 2020 को ग्रामीण भारत बंद (Rural india Bandh) का आह्वान किया है। इस दिन गांवों के रास्ते और ट्रेनों को रोका जाएगा, दुकानें और व्यवसाय बंद रखे जाएंगे और सरकारी कार्यालयों पर प्रदर्शन आयोजित किये जायेंगे।

उल्लेखनीय है कि 8 जनवरी को ही सीटू और इंटक सहित देश के प्रमुख ट्रेड यूनियनों ने भी देशव्यापी मजदूर हड़ताल आयोजित करने का फैसला किया है।

यहां जारी एक बयान में छत्तीसगढ़ किसान सभा के अध्यक्ष संजय पराते और महासचिव ऋषि गुप्ता ने बताया कि देश मे पसरती मंदी का सबसे ज्यादा प्रभाव किसान समुदाय और आदिवासियों पर पड़ रहा है। लेकिन ग्रामीणों को मनरेगा के जरिये काम देने और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों के अनुसार लाभकारी समर्थन मूल्य पर फसल खरीदी करने से मोदी सरकार इंकार कर रही है। छत्तीसगढ़ इसका ज्वलंत उदाहरण है कि किस तरह मोदी सरकार किसानों को धान के बोनस से वंचित करने का खेल खेल रही है।

किसान सभा नेताओं ने कहा है कि आदिवासियों को एक ओर तो वनाधिकारों से वंचित किया जा रहा है, दूसरी ओर कॉर्पोरेट मुनाफे के लिए जल, जंगल, जमीन और खनिज की लूट के लिए उन्हें बड़े पैमाने पर विस्थापित करने की नीतियां बनाई जा रही है। उन्होंने कहा कि इन आदिवासी-किसान विरोधी नीतियों का नतीजा यह है कि बैंकों तक किसानों की पहुंच घट गई है और महाजनी कर्ज के फंदे में फंसकर किसान आत्महत्याएं कर रहे हैं।

इन नीतियों के खिलाफ पूरे देश के किसान और आदिवासी 8 जनवरी को अपनी आवाज बुलंद करेंगे और गांव बंद का आयोजन करेंगे।

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें
 

Leave a Reply