Advertisment

विश्व पर्यावरण दिवस पर कविता : इन शहरों की पीठ पर लगी हैं, कईं जंगलों की आहें

विश्व पर्यावरण दिवस पर कविता ग्रीन बैल्ट वाले दरख़्तों ने  देखे है क़त्ल के मंज़र, लाशों से पटी थी सड़क, आम के बाग़ों पर चले थे.. बुलडोज़र।

विश्व पर्यावरण दिवस पर कविता Poem on world environment day in Hindi

विश्व पर्यावरण दिवस पर कविता

विश्व पर्यावरण दिवस पर कविता

Advertisment

ग्रीन बैल्ट वाले दरख़्तों ने 

देखे है क़त्ल के मंज़र,

लाशों से पटी थी सड़क,

Advertisment

आम के बाग़ों पर चले थे..

बुलडोज़र।

वो, नम्बर डाल कर

Advertisment

काट रहे थे गरदनें

फोरलेन के वास्ते।

बस तभी से

Advertisment

खुद को सिकोड़े पड़े हैं।

फैलती ही नहीं सड़क तक

हदों में जड़े हैं

Advertisment

ना बाँह खोली कभी

ना आवाज़, ना कमर सीधी

सहमे से चुप खड़े हैं

Advertisment

कहें किस से आपबीती?

काग़ज़ों पे तय दायरे

फ़रमानों पे ज़िंदगी

Advertisment

लिए हैं बदन पर बदनुमा 

पीकों की गंदगी 

पहियों से उड़ी गर्द से अटे

एक दूजे से कटे-कटे दरख़्त

देखते हैं

नशे में चूर तरक़्क़ी की अदायें 

इन शहरों की पीठ पर लगी हैं 

कईं जंगलों की आहें...

डॉ कविता अरोरा

Poem on world environment day in Hindi

Advertisment
सदस्यता लें