संघ परिवार विश्वविद्यालयों को चुप कराने की अपनी शैतानी योजना हर हाल में छोड़े : विजयन

Sangh Parivar abandons its evil plan to silence universities: Vijayan

नई दिल्ली, 6 जनवरी 2019 रविवार को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में छात्रों और शिक्षकों पर कथित तौर पर एबीवीपी से जुड़े गुंडों के हमले के एक दिन बाद, केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Kerala Chief Minister Pinarayi Vijayan) ने सोमवार को इस हमले की निंदा की और कहा कि संघ परिवार को खूनखराबा कर विश्वविद्यालयों को चुप कराने की अपनी शैतानी योजना हर हाल में छोड़ देनी चाहिए।

केरल के मुख्यमंत्री व भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के पोलित ब्यूरो सदस्य (Chief Minister of Kerala & Politburo Member, Communist Party of India (Marxist)) पी. विजयन ने ट्वीट किया,

“जेएनयू के छात्रों और शिक्षकों पर हमला, हिंसोन्माद, असहिष्णुता का एक भयावह प्रदर्शन है। हमले की व्यापकता से साजिश की सीमा का पता चलता है। संघ परिवार को खूनखराबे के जरिए विश्वविद्यालयों को चुप कराने की अपनी इस इस शैतानी साजिश को हर हाल में त्याग देनी चाहिए। याद रखें, वे छात्र सभी के लिए बोल रहे हैं।”

कई नकाबपोश लोगों ने जेएनयू परिसर के अंदर रविवार को छात्रों और शिक्षकों को डंडों और लोहे की रॉड से पीटा था। आरोप है कि ये सशस्त्र हमलावर संघ परिवार से संबद्ध अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् से जुड़े हुए थे।

रविवार को हुई हिंसा में कम से कम 20 छात्रों को गंभीर चोटों के साथ एम्स में भर्ती कराया गया, जिसमें छात्रसंघ अध्यक्ष आइशी घोष भी शामिल हैं।

 

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations