Home » समाचार » देश » 29 फरवरी को लखनऊ में होगा “लोकतंत्र बचाओ सम्मेलन” – दारापुरी
S.R. Darapuri एस आर दारापुरी,

29 फरवरी को लखनऊ में होगा “लोकतंत्र बचाओ सम्मेलन” – दारापुरी

Save democracy conference

लखनऊ 24 फरवरी, 2020: “29 फरवरी को लखनऊ में होगा लोकतंत्र बचाओ सम्मेलन”- यह बात आज एस आर दारापुरी पूर्व आई जी एवं राष्ट्रीय प्रवक्ता, आल इंडिया पीपुल्स फ्रंट ने प्रेस को जारी ब्यान में कही है.

उन्होंने आगे कहा है कि आज पूरा उत्तर प्रदेश पुलिस राज में तब्दील हो गया है. धारा 144 लगातार लगा कर आम लोकतान्त्रिक गतिविधियाँ रोकी जा रही हैं. धरना प्रदर्शन पर मुकदमें कायम किये जा रहे हैं. सीएए के विरुद्ध शांतिपूर्ण धरने पर बैठी महिलाओं पर बर्बर लाठी चार्ज तथा मुक़दमे दर्ज किये जा रहे हैं. थानों पर सामाजिक-राजनीतिक कार्यकर्ताओं को थर्ड डिग्री टार्चर दिया जा रहा है. शांतिभंग के मामलों में लाखों की जमानतें मांगी जा रही हैं. रासुका, गुंडा एक्ट लगा कर विरोध की आवाज़ बंद की जा रही है. यह आतंक का माहौल इसी लिए बनाया जा रहा है क्योंकि सरकार जनता के हर मुद्दे पर विफल रही है. प्रदेश में विपक्षी राजनीतिक पार्टियाँ योगी सरकार के दमन का विरोध करने से डर रही हैं.

अतः प्रदेश में लोकतंत्र की रक्षा एवं जनमुद्दों को उठाने तथा हर नागरिक की सुरक्षित जिंदगी के लिए एक विराट जन आन्दोलन ज़रूरी है. इसी लिए 29 फरवरी को लखनऊ में गंगा प्रसाद मेमोरियल हाल में “लोकतंत्र बचाओ सम्मलेन” का आयोजन किया गया है जिसमें राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधी, सामाजिक कार्यकर्त्ता एवं बुद्धिजीवी बड़ी संख्या में भाग लेंगे. सम्मलेन में संयुक्त राजनीतिक विपक्ष के निर्माण का प्रयास भी किया जायेगा ताकि योगी सरकार के दमन के एजंडा का राजनीतिक स्तर पर विरोध किया जा सके.

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

paulo freire

पाओलो फ्रेयरे ने उत्पीड़ियों की मुक्ति के लिए शिक्षा में बदलाव वकालत की थी

Paulo Freire advocated a change in education for the emancipation of the oppressed. “Paulo Freire: …

Leave a Reply