Home » Latest » किसान आंदोलन : जस्टिस काटजू को एक दूसरा महाभारत युद्ध अपरिहार्य क्यों लगता है
second mahabharat war seems

किसान आंदोलन : जस्टिस काटजू को एक दूसरा महाभारत युद्ध अपरिहार्य क्यों लगता है

Second Mahabharat War seems inevitable?

नई दिल्ली, 25 फरवरी 2021. तीन नए कृषि कानूनों को वापिस लिए जाने की मांग को लेकर दिल्ली की सीमाओं पर जारी किसान आंदोलन को तीन महीने होने जा रहे हैं, लेकिन सरकार किसी भी हाल में इन कानूनों को वापिस लेने को तैयार नहीं है। इस बीच सर्वोच्च न्यायालय के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने कहा है कि एक दूसरा महाभारत युद्ध अपरिहार्य लगता है।

जस्टिस काटजू ने अपने सत्यापित फेसबुक पेज पर लिखा,

“A Second Mahabharat War seems inevitable

Just as there could be no agreement between the Kauravas and the Pandavas, despite the best efforts of Lord Krishna, so also there could be no agreement between the government and the farmers.

So a Second Mahabharat War seems inevitable, in which there will be terrible casualties.

Hari Om

जिस प्रकार कौरवों और पांडवों में कोई समझैता नहीं हो पाया, श्री कृष्ण के भरसक प्रयास के बावजूद, इसी प्रकार सरकार और किसानों में कोई समझौता नहीं हो पाया । अब दूसरा महाभारत युद्ध अवश्यम्भावी है, जिसमें भयंकर नरसिंहार होगा”

A Second Mahabharat War seems inevitable
Just as there could be no agreement between the Kauravas and the Pandavas,…

Posted by Markandey Katju on Thursday, February 25, 2021

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

dr. bhimrao ambedkar

65 साल बाद भी जीवंत और प्रासंगिक बाबा साहब

Babasaheb still alive and relevant even after 65 years क्या सिर्फ दलितों के नेता थे …

Leave a Reply