Home » Latest » किसान आंदोलन : जस्टिस काटजू को एक दूसरा महाभारत युद्ध अपरिहार्य क्यों लगता है
second mahabharat war seems

किसान आंदोलन : जस्टिस काटजू को एक दूसरा महाभारत युद्ध अपरिहार्य क्यों लगता है

Second Mahabharat War seems inevitable?

नई दिल्ली, 25 फरवरी 2021. तीन नए कृषि कानूनों को वापिस लिए जाने की मांग को लेकर दिल्ली की सीमाओं पर जारी किसान आंदोलन को तीन महीने होने जा रहे हैं, लेकिन सरकार किसी भी हाल में इन कानूनों को वापिस लेने को तैयार नहीं है। इस बीच सर्वोच्च न्यायालय के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने कहा है कि एक दूसरा महाभारत युद्ध अपरिहार्य लगता है।

जस्टिस काटजू ने अपने सत्यापित फेसबुक पेज पर लिखा,

“A Second Mahabharat War seems inevitable

Just as there could be no agreement between the Kauravas and the Pandavas, despite the best efforts of Lord Krishna, so also there could be no agreement between the government and the farmers.

So a Second Mahabharat War seems inevitable, in which there will be terrible casualties.

Hari Om

जिस प्रकार कौरवों और पांडवों में कोई समझैता नहीं हो पाया, श्री कृष्ण के भरसक प्रयास के बावजूद, इसी प्रकार सरकार और किसानों में कोई समझौता नहीं हो पाया । अब दूसरा महाभारत युद्ध अवश्यम्भावी है, जिसमें भयंकर नरसिंहार होगा”

A Second Mahabharat War seems inevitable
Just as there could be no agreement between the Kauravas and the Pandavas,…

Posted by Markandey Katju on Thursday, February 25, 2021

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

shahnawaz alam

अदालतों का राजनीतिक दुरुपयोग लोकतंत्र को कमज़ोर कर रहा है

Political abuse of courts is undermining democracy असलम भूरा केस में सुप्रीम कोर्ट के फैसले …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.