Home » Latest » महिलाओं में संवेदी संबंधी समस्या अवसाद को बढ़ा सकती है : अध्ययन
depression meaning in hindi,खिन्नता depression, fretfulness, poor or low spirits, sorrowfulness, glumness, ruefulness,अवसाद, depression, decay, fading, faintness, fecula, sadness,deep depression meaning in hindi depression meaning in hindi wikipedia, economic depression meaning in hindi, anxiety depression meaning in hindi, clinical depression meaning in hindi, depression meaning in english, angle of depression meaning in hindi, depression in hindi,

महिलाओं में संवेदी संबंधी समस्या अवसाद को बढ़ा सकती है : अध्ययन

Sensory problems may increase depression in women: study

नई दिल्ली, 28 मार्च 2021. एक नए अध्ययन में दावा किया गया है कि जो महिलाएं दृष्टि, श्रवण या दोहरी संवेदी (मस्तिष्क-संबंधी) रोग से पीड़ित (Suffering from vision, hearing or dual sensory (neurological) disease) हैं, उन्हें इसी तरह की दिक्कतों का सामना करने वाले पुरुषों की तुलना में अवसाद और चिंता संबंधी समस्याएं भी दोगुनी होती हैं।

The study is published in the International Journal of Geriatric Psychiatry.

यह अध्ययनVisual, hearing, and dual sensory impairment are associated with higher depression and anxiety in women” इंटरनेशनल जर्नल ऑफ जेरियाट्रिक साइकियाट्री में प्रकाशित हुआ है। अध्ययन ने संकेत दिया कि अवसाद और चिंता की व्यापकता पुरुषों की तुलना में महिलाओं में 2 और 2.56 गुणा अधिक होती है।

एंग्लिया रस्किन विश्वविद्यालय (एआरयू) में प्रमुख लेखक शाहिना प्रधान (CORRESPONDING AUTHOR Shahina Pardhan) के मुताबिक अध्ययन में पाया गया है कि सेन्सरी लॉस, विशेष रूप से दृष्टि और श्रवण संबंधी दिक्कत दोनों के परिणामस्वरूप जनसंख्या की अधिक संख्या अवसाद और चिंता का कारण है और यह प्रवृत्ति महिलाओं में विशेष रूप से मजबूत है।

Some sensory damage is preventable or treatable

प्रधान के मुताबिक यह दृष्टि और श्रवण हानि को दूर करने के लिए हस्तक्षेपों के महत्व पर प्रकाश डालता है, विशेष रूप से महिलाओं में। कुछ संवेदी नुकसान निवारक या उपचार योग्य हैं और स्पष्ट रूप से ये मुद्दे न केवल शारीरिक स्वास्थ्य पर, बल्कि मानसिक स्वास्थ्य (mental health) पर भी असर डाल रहे हैं।

कैसे हुआ अध्ययन

अध्ययन के लिए अनुसंधान टीम ने 23,000 से अधिक वयस्कों को सर्वेक्षण में शामिल किया और आंकड़ों से निष्कर्ष निकाले। इसमें प्रतिभागियों ने खुद से रिपोर्ट किया कि क्या उन्हें अवसाद या चिंता का सामना करना पड़ा है और यह भी कहा कि उन्होंने दृष्टि, श्रवण, या दोहरे (दोनों ²ष्टि और श्रवण) संवेदी संबंधी दिक्कतों का अनुभव किया है ।

और क्या पाया गया अध्ययन में

अध्ययन में पाया गया कि दोहरी संवेदी दुर्बलता वाली महिलाओं में अवसाद या चिंता (Depression or anxiety in women with dual sensory impairment) की आशंका उनसे लगभग साढ़े तीन गुना अधिक देखने को मिली, जिन्हें इस तरह की कोई दिक्कत नहीं थी। वहीं दोहरी संवेदी दुर्बलता वाले पुरुषों में अवसाद का अनुभव होने की संभावना ढाई गुना से अधिक देखने को मिली।

टॉपिक्स – gender difference, hearing impairment, mental health, vision impairment, लिंग अंतर, श्रवण हानि, मानसिक स्वास्थ्य, दृष्टि हानि.

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

dr. bhimrao ambedkar

65 साल बाद भी जीवंत और प्रासंगिक बाबा साहब

Babasaheb still alive and relevant even after 65 years क्या सिर्फ दलितों के नेता थे …

Leave a Reply