Home » Latest » देश में कोरोना के पुनः प्रसार के लिए प्रचारजीवी सरकार की गंभीर लापरवाही जिम्मेदार – भाकपा
Communist Party of India CPI

देश में कोरोना के पुनः प्रसार के लिए प्रचारजीवी सरकार की गंभीर लापरवाही जिम्मेदार – भाकपा

Serious negligence of pracharjivi government responsible for the revival of Corona in the country – CPI

लखनऊ- 8 अप्रैल 2021. भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (Communist Party of India), उत्तर प्रदेश के राज्य सचिव मंडल ने उत्तर प्रदेश और देश में कोरोना के पुनः प्रसार के लिए केन्द्र और राज्य सरकार की गंभीर लापरवाहियों को जिम्मेदार ठहराया है।

पार्टी ने आरोप लगाया है कि कोरोना की पुनः जबरदस्त छलांग की जिम्मेदारी अब फिर से जनता के ऊपर थोपी जा रही है और उसे प्रताड़ित करने को सरकार ने सारी ताकत झोंक दी है।

आज यहां जारी एक प्रेस बयान में भाकपा राज्य सचिव मंडल ने कहा कि अब कोरोना सरकार के लिए नया नहीं है और उससे हम पूरे एक साल से सुपरिचित हैं।

जब वैज्ञानिक और चिकित्सक कोरोना के जारी रहने की चेतावनियां दे रहे थे और विदेशों में कोरोना की दूसरी लहर ने पैर फैलाना शुरू कर दिये थे, उतर प्रदेश और केन्द्र की सरकार कोरोना पर काबू पा लेने का आभास दे रहे थे। उनकी लचर कार्यवाहियों ने जनता को भी लापरवाह बना दिया।

भाकपा ने कहा कि प्रदेश सरकार के मुखिया ने इस बीच अधिकांश समय अन्य राज्यों में चल रहे चुनावों में भाजपा के प्रचार में लगाया। कोरोना से निपटने के लिए गठित अधिकारियों की टीम बैठकों तक सीमित हो गयी। सफाई- सैनिटाइज़ेशन का काम रोक दिया, राजनेता और अधिकारी राजनीतिक गतिविधियों, उत्सवों में कोविड प्रोटोकॉल की धज्जियां बिखेरते दिखे तो आम जनता भी उनका अनुकरण करती नजर आयी।

पार्टी ने कहा कि इस बीच देश में बने टीके का निर्यात किया जाता रहा और बहुत धीमी रफ्तार से टीकाकरण किया गया। अब तक देश प्रदेश में 10 प्रतिशत भी टीकाकरण नहीं हुआ जबकि इसे युद्ध स्तर पर चलाये जाने की जरूरत थी/ है। जांच का काम लगभग ठप कर दिया गया।

भाकपा ने कहा कि इस बीच राज्य में एक भी नया अस्पताल नहीं बना। अब नतीजा सामने है। बड़े शहरों में सरकारी अस्पतालों में जगह नहीं बची। लोग या तो घरों पर रह कर इलाज कराने को मजबूर हैं अथवा निजी अस्पतालों में लाखों देकर भी अव्यवस्थाओं को झेलने को मजबूर हैं। राजधानी लखनऊ तक में शवों की अंत्येष्टि के लिए कई-कई घण्टे लाइन लगानी पड़ रही है। चार साल में योगी सरकार ने एक भी विद्युत शवदाह गृह नहीं बनवाया। अब दवाओं के गायब होने और जमाखोरी की खबर मिल रही हैं।

पार्टी के राज्य सचिव डॉ. गिरीश ने कहा कि सरकार या तो चुनाव प्रचार में दिखती है या टीवी-  अखबारों के विज्ञापन में अथवा गोदी मीडिया की चिंघाड़ों में। जमीनी स्तर पर सरकार सिर्फ अपनी कथित कामयाबियों का जश्न मनाते अथवा जनता पर जुल्म ढाते दिखती है।

अब पुनः आर्थिक गतिविधियां ठप करने वाले कदम उठाये जा रहे हैं जिसकी सजा मजदूरों, रोज कमा कर खाने वालों, किसानों और  व्यापारियों को भुगतनी पड़ेगी। जनता के अधिकारों को पुलिसिया बूटों के तले रौंदा जाने लगा है।

भाकपा ने राज्य और केन्द्र सरकार को आगाह किया कि अब भी समय है कि वह नाटकखोरी बन्द करे, अपनी असफलताओं को जनता पर थोपना बन्द करे और जनता के जीवन और जीवनयापन की रक्षा करने को हर संभव और बाजिव कदम उठाये।

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

monkeypox symptoms in hindi

जानिए मंकीपॉक्स का चेचक से क्या संबंध है

How monkeypox relates to smallpox नई दिल्ली, 21 मई 2022. दुनिया में एक नई बीमारी …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.