जन-पर्यावरण को जीएम सरसों की खेती से गंभीर खतरा

जन-पर्यावरण को जीएम सरसों की खेती से गंभीर खतरा

जीएम कपास से बहुराष्ट्रीय कंपनियों को फायदा हुआ और किसानों ने आत्महत्या की

आनुवंशिक इंजीनियरिंग मूल्यांकन समिति, भारत सरकार (Genetic Engineering Appraisal Committee – GEAC जीईएसी) ने 18 अक्टूबर को आनुवंशिक रूप से संशोधित (जीएम) सरसों के पर्यावरण रिलीज की अनुमति दी है। पहली खाद्य फसल होने के नाते, विशेषज्ञों द्वारा किये गये अध्ययन पर्यावरण और जैव सुरक्षा के साथ-साथ जल्दबाजी में सरकार की मंजूरी से जुड़े मानव स्वास्थ्य जोखिमों पर सवाल उठाते हैं। जीएम कपास का भयानक अनुभव, जिसके परिणामस्वरूप पिछले डेढ़ दशक के दौरान कपास के खेतों में तबाही हुई और किसानों ने आत्महत्या की, बताता है कि उसके केवल मोनसेंटो और अन्य कृषि व्यवसाय करने वाले बहुराष्ट्रीय कंपनियों को फायदा हुआ।

सरसों की संकर प्रजाति कैसे बनाई गई?

सेंटर फॉर जेनेटिक मैनिपुलेशन ऑफ क्रॉप प्लांट्स, दिल्ली विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने ट्रांसजेनिक जीएम सरसों हाइब्रिड डीएमएच-11 (Dhara Mustard Hybrid-11, otherwise known as DMH – 11) (धारा सरसों हाइब्रिड’) विकसित किया है, जो फसल को खरपतवारनाशी रसायन के प्रति सहनशील बनाता है। मिट्टी में पाये जाने वाले दो जीनों-बार्नेज और बारस्टार- को शामिल करते हुए बैसिलस एमाइलोलिफेशियन्स (Bacillus amyloliquefaciens) को सरसों की दो किस्मों, ‘वरुणऔर अर्ली हीरा-2’ में मिलाया गया था। बाद की दो सरसों की किस्मों को पुरुष बांझपन’ नामक आनुवंशिक तकनीक का उपयोग करके सरसों की संकर प्रजाति बनाई गई है। इसके कारण जीएम सरसों ग्लूफोसिनेट अमोनियम (glufosinate ammonium) नामक खरपतवारनाशी रसायन (ग्लूफोसिनेट अमोनियम नामक खरपतवारनाशी रसायन) के प्रति सहिष्णु हो गया है।

क्या है ग्लूफोसिनेट? मानव स्वास्थ्य पर क्या हैं ग्लूफोसिनेट के दुष्प्रभाव?

उल्लेखनीय है कि ग्लूफ़ोसिनेट एजंट ऑरेंज नामक रसायन की बहन ही है जिसका वियतनाम युद्ध में प्रयोग किया गया था, और इस रसायान से खेत के अन्य सभी खरपतवार मारे जाते हैं।

यह खरपतवारनाशी का व्यापक प्रसार न केवल मिट्टी तथा जल को प्रदूषित करता है, बल्कि खाद्य श्रृंखला में प्रवेश कर मानव स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाता है। ग्लूफ़ोसिनेट और ग्लाइपोहोसेट ज्ञात कैंसर एजेंट हैं और दूषित भोजन का दैनिक सेवन मानव स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। पंजाब, उत्तर प्रदेश और कई राज्यों के गांवों में लोग रोजाना सरसों की साग (हरी सरसों का पत्ता), आहार में खाना पकाने का तेल और मुर्गी और पशु चारा में इसके खल्ली का उपयोग करते हैं। स्वयं इस लेख के लेखक ने क्वींसलैंड, ऑस्ट्रेलिया में एक वैज्ञानिक के रूप में जीएम फसलों पर काम करते हुए दिखाया था कि कैसे पत्तियों, बीजों और रासायनिक अवशेषों के लिए जीन संश्लेषित विष का रिसाव होता है जो मधुमक्खियों, पक्षियों और मनुष्यों को इसके सेवन से नुकसान पहुंचाते हैं (पीएनएएसयूएसए, 1998)। एकमात्र पार्टी जो कृषि के अत्यधिक रासायनिककरण से संभावित रूप से लाभान्वित होगी, वह है रासायनिक दिग्गज बायर, ग्लूफ़ोसिनेट और ग्लाइपोहोसेट का एकमात्र निर्माता।

जीएम सरसों की खेती से क्या वास्तव में तिलहन का उत्पादन बढ़ेगा?

सरकार का दावा है कि जीएम सरसों की खेती से तिलहन का उत्पादन बढ़ेगा और वनस्पति तेलों के आयात पर खर्च होने वाली 20 अरब डॉलर की भारी राशि को कम करने में मदद मिलेगी। हालांकि, भारतीय कृषि संस्थान, पूसा परिसर, नई दिल्ली में नियामक प्राधिकरण जीईएसी द्वारा किये गये प्रायोगिक उपज परीक्षणों ने सत्तारूढ़ किस्म वरुण की तुलना में जीएम सरसों के संकर की कोई उपज वर्चस्व नहीं दिखाया। इसके विपरीत 18 अक्टूबर को जीईएसी ने घोषणा की कि ट्रांसजेनिक डीएमएच-11 को वरुण की तुलना में 20 से 25 प्रतिशत उपज लाभ हो सकता है, लेकिन सार्वजनिक डोमेन में उपज डेटा प्रदान नहीं किया। तर्क निराधार हैं क्योंकि वे सार्वजनिक डोमेन में उपलब्ध प्रयोगात्मक डेटा से रहित हैं।

खाद्य जीएम फसल की खेती से मधुमक्खियों को हो सकता है काफी नुकसान

सरसों के खेतों के अधिक रासायनिककरण से मधुमक्खियों की संख्या कम हो सकती है जैसा कि कई कीट विज्ञानियों ने संकेत दिया है। मधुमक्खियां न केवल हमें शहद प्रदान करती हैं बल्कि फूलों को परागित करके हमें अनाज और फलों की उच्च पैदावार भी देती हैं। यह अनुमान है कि इन विनम्र मधुमक्खियों की बदौलत दुनिया भर में लगभग 30 प्रतिशत भोजन का उत्पादन होता है। खाद्य जीएम फसल की खेती से हमारे देश की खाद्य सुरक्षा को खतरा है।

स्वर्गीय डॉ पुष्पा भार्गव, महान आणविक जीवविज्ञानी; पूर्व ज्ञान आयोग के उपाध्यक्ष रहे हैं और सक्रिय रूप से स्वास्थ्य के मुद्दों की वकालत की है, और भारतीय कृषि में जीएम फसलों द्वारा बनाये गये पर्यावरणीय कहर से होने वाले खतरों के खिलाफ चेतावनी दी है।

जीएम फसल समर्थक, अनैतिक वैज्ञानिकों के कॉर्पोरेट कृषि व्यवसाय वर्ग अक्सर दावा करते हैं कि जीएम खाद्य उत्पादन बढ़ाने (महंगे वनस्पति तेल आयात को कम करने) और भूख से निपटने का एकमात्र समाधान है। इसके विपरीत 80 के दशक के अंत में आईसीएआर राष्र्ट्रीय तिलहन मिशन के तहत पीली क्रांति की शुरुआत हुई, जिसने सफलतापूर्वक तिलहन उत्पादन में वृद्धि की और देश को वनस्पति तेल उत्पादन में आत्मनिर्भर बनाया।

भारत तिल, पीली सरसों, मूंगफली जैसी मूल्यवान तिलहन फसलों का घर है और आईसीएआर एनबीपीजीआर का जीन बैंक लगभग 30,000 प्रकार के तिलहन किस्मों को सुरक्षित रखता है। राष्ट्रीय तिलहन मिशन ने पारंपरिक पौधों के प्रजनन में इस समृद्ध संग्रह और पूर्वी यूरोपीय तेल बीज जर्मप्लाज्म का उपयोग किया और दर्जनों उच्च उपज वाली फसल किस्मों को विकसित किया। ये फसल बीज सार्वजनिक क्षेत्र के अनुसंधान द्वारा देश भर के लाखों छोटे किसानों को स्वतंत्र रूप से उपलब्ध कराये गये थे। हालांकि, विश्व व्यापार संगठन और अनैतिक निर्यात व्यापारी लॉबी के प्रभाव में वनस्पति तेलों के आयात करों में भारी कमी लाई गई थी।

इस प्रकार, एमएनसी एग्रो बिजनेस लॉबी द्वारा प्रेरित सस्ते आयात के कारण घरेलू तिलहन की खेती नहीं टिक पाई तथा भारत वनस्पति तेल आयात पर निर्भर हो गया।

वाणिज्यिक जीएम सरसों की खेती के लिए कॉर्पोरेट कृषि व्यवसाय स्वीकृति ने अन्य जीएम खाद्य फसलों जैसे बैंगन, चावल, गेहूं, मक्का की शुरूआत के द्वार खोल दिये। यह सार्वजनिक क्षेत्र के कृषि को नष्ट कर देगा। यह रास्ता स्थानीय अनुसंधान और भारतीय बीज क्षेत्र पर बहुराष्ट्रीय कंपनियों के एकाधिकार की ओर जाता है। मोनसेंटो द्वारा जीएम कपास एकाधिकार का दुखद अनुभव एक स्पष्ट उदाहरण है।

सरकार का हालिया निर्णय न केवल हमारे किसानों को गहरे संकट में डालेगा, बल्कि संप्रभु खाद्य उत्पादन और खाद्य सुरक्षा को खतरे में डालकर सार्वजनिक वितरण प्रणाली को भी अस्थिर करेगा। केंद्र सरकार को जीएम सरसों की व्यावसायिक खेती की मंजूरी तुरंत वापस लेनी चाहिए।

डॉ सोमा मारला

(Dr. Soma Marla S received his Ph.D.in Division of Genomic Resources, National Bureau of Plant Genetic Resources. His current research interests include the Bioinformatics, Sequence Analysis, Bioinformatics and Computational Biology, Next Generation Sequencing.)

(मूलतः देशबन्धु में प्रकाशित लेख का किंचित् संपादित रूप साभार)

Web title : Serious threat to the public environment from the cultivation of GM mustard

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner