Home » Latest » 90 की कीमत पर 10 के लिए काम कर रही है मोदी सरकार
Shaheed Jagdev-Karpoori Sandesh Yatra

90 की कीमत पर 10 के लिए काम कर रही है मोदी सरकार

नरेन्द्र मोदी सरकार 90 की कीमत पर 10 के लिए काम कर रही है – ‘शहीद जगदेव-कर्पूरी संदेश यात्रा’ में वक्ताओं ने कहा

Narendra Modi government is working for 10 at the cost of 90 : Shaheed Jagdev-Karpoori Sandesh Yatra

विशद कुमार

‘शहीद जगदेव-कर्पूरी संदेश यात्रा’ के आज 9वें दिन बिहार के भागलपुर में वक्ताओं ने कहा कि नरेन्द्र मोदी सरकार 90 की कीमत पर 10 के लिए काम कर रही है।

यात्रा के दरम्यान सामाजिक न्याय आंदोलन (बिहार) के रामानंद पासवान और अर्जुन शर्मा ने कहा कि 100 में 90 बहुजनों से धन, धरती, राजपाठ, शिक्षा व सम्मान छीनते हुए नरेन्द्र मोदी सरकार ‘हिंदू राष्ट्र’ बनाने का अभियान को आगे बढ़ा रही है। हिंदू राष्ट्र बनाने के एजेंडा पर आगे बढ़ते हुए ही इस सरकार ने तीन कृषि कानून, चार श्रम संहिता व नई शिक्षा नीति-2020 थोपने का काम किया है। सब कुछ अंबानी-अडानी के हवाले करने के लिए तेज रफ्तार से निजीकरण जारी है। एससी, एसटी व ओबीसी का आरक्षण ठिकाने लगाया जा रहा है। यह सरकार 90 की कीमत पर 10 के लिए काम कर रही है।

अवसर पर सामाजिक न्याय आंदोलन (बिहार) के अंजनी और बहुजन स्टूडेंट्स यूनियन (बिहार) के मिथिलेश विश्वास ने कहा कि कोरोना के कारण हुए लॉकडाउन में करोड़ों लोगों का रोज़गार खत्म हो गया। लेकिन सबसे धनी अरबपतियों की संपत्ति 35 प्रतिशत बढ़ गई। कहना ना होगा कि यह सरकार बहुजनों पर ब्राह्मणवादी-पूंजीवादी गुलामी का शिकंजा मजबूत बना रही है।

यात्रा में योगेन्द्र रविदास, चंदन राम, शंकर मंडल, शालीग्राम मांझी, प्रमोद मांझी, वरूण कुमार दास, बिट्टू कुमार, संजीव कुमार, चंदन राम वगैरह शामिल थे।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

paulo freire

पाओलो फ्रेयरे ने उत्पीड़ियों की मुक्ति के लिए शिक्षा में बदलाव वकालत की थी

Paulo Freire advocated a change in education for the emancipation of the oppressed. “Paulo Freire: …

Leave a Reply