Home » समाचार » देश » योगी के बेहूदा बयान पर शाहनवाज आलम का बड़ा हमला, कहा अंग्रेजों की मुखबिरी करने वाले रानी लक्ष्मीबाई और बेगम हजरत महल की वैचारिक दृढ़ता नहीं समझ सकते
उत्तर प्रदेश कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम (Shahnawaz Alam, Chairman, State Congress Minority Department)

योगी के बेहूदा बयान पर शाहनवाज आलम का बड़ा हमला, कहा अंग्रेजों की मुखबिरी करने वाले रानी लक्ष्मीबाई और बेगम हजरत महल की वैचारिक दृढ़ता नहीं समझ सकते

Shahnawaz Alam’s big attack on Yogi’s stupid statement, Said British informers cannot understand the ideological firmness of Rani Laxmibai and Begum Hazrat Mahal

लखनऊ 24 जनवरी। कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज आलम (Shahnawaz Alam, Chairman, State Congress Minority Department) ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा सीएए-एनआरसी विरोधी आन्दोलन में शामिल महिलाओं पर की गई टिप्पणी (Chief Minister Yogi Adityanath made comments on women involved in anti-CAA-NRC movement) कि उन्हें आन्दोलन में बैठाकर पुरूष खुद रजाई में बैठे है, को आपत्तिजनक बताते हुए कहा कि इससे योगी आदित्यनाथ की कुंठित मानसिकता (Yogi Adityanath’s dull mentality) का पता चलता है।

श्री शाहनवाज आलम ने कहा कि मुख्यमंत्री जी जिस हिन्दुत्व की विचारधारा से आते है वहां आन्दोलनों का इतिहास नहीं है। उनके लोग सिर्फ अंग्रेजों की मुखबिरी करते थे जिसके लिए अंग्रेजों से पैसे मिलते थे। इसलिए योगी जी रानी लक्ष्मीबाई और बेगम हजरत महल के बलिदानी इतिहास की वारिस इन संर्घषशील महिलाओं की वैचारिक दृढ़ता को नहीं समझ सकते। योगी जी को समझना चाहिए कि हर आदमी मुखबिर नहीं हो सकता।

श्री आलम ने कहा कि मख्यमंत्री आन्दोलकारियों से निजी रंजिश की हद तक उतर आयें है, जो उनकी प्रशासनिक अक्षमता को दर्शाता है। आन्दोलन विरोधी और मुखबिरी की पंरम्परा से आने वाले मुख्यमंत्री जी को स्वतन्त्रता आन्दोलन में शामिल महिलाओं का इतिहास पढ़ना चाहिए। उन्हें समझ में आ जायेगा कि लोकतंत्र की रक्षा के लिए लड़ने वाली महिलाओं (Women fighting for the protection of democracy) को अंग्रेजों की पुलिस नहीं डिगा पाई तो मुखबिरों की पुलिस क्या डिगा पायेगी। श्री आलम ने कहा कि योगी जी की यही महिला विरोधी मानसिकता उन्हें बलात्काार के आरोपी भाजपा विधायक के साथ और पीड़ित महिला के विरूद्ध खड़ा करती है।

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.  

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

Kisan

आत्मनिर्भर भारत में पांच मांगें, 26 संगठन, 10 जून को करेंगे छत्तीसगढ़ में राज्यव्यापी आंदोलन

होगा राज्य और केंद्र सरकार की कृषि और किसान विरोधी नीतियों का विरोध रायपुर, 06 …

Leave a Reply