Advertisment

हाँ मैं बेशर्म हूँ....रवायतें ताक पर रख कर खुद अपनी राह चलती हूँ

author-image
hastakshep
16 Feb 2020
New Update
बेड़ा गर्क है.. सस्ता नेटवर्क है.. इकोनॉमी पस्त है.. पर सब चंगा सी

Advertisment

हाँ मैं बेशर्म हूँ....

Advertisment

झुंड के साथ गोठ में शामिल नहीं होती

Advertisment

रवायतें ताक पर रख कर खुद अपनी राह चलती हूँ

Advertisment

तो लिहाजों की गढ़ी परिभाषाओं के अल्फ़ाज़ गड़बड़ाने लगते हैं..

Advertisment

और खुद के मिट जाने की फ़िकरों में डूबी रिवाजी औरतों की इक बासी उबाऊ नस्ल सामने से वार करती है...

Advertisment

झुंड में यह मुँह चलाती भेड़ें भरकस कोशिशों में है कि मुझे भेड़ कर दें...

Advertisment

मेरा खिलखिलाना...

फलक तक ले जा के आँखें..

ख़्वाबों की पतंगें उड़ाना..

इन्हें हरगिज़ पसंद नहीं...

संस्कारों की खिड़कियों से घूरती हैं कई जोड़ियाँ आँखों की... कसमसाहटें हैं इन्हें अपनी-अपनी सलाखों की...

मेरी बेपरवाहियों से घबड़ाये...

उधड़े फटे नियमों की तुरपाइयों पे नज़रें गड़ाये

लोगों की आँख में खट्ट से चुभती है सुइयाँ

और फिर

नाबीना लोगों का झुंड मशालें लिये रस्ते बताता है..

कुंठित फुसफुसाहटों का स्वर शोर मचाता है..

बड़ी बदमाश औरत है...

और यूँ ही आपस आपस के कानों तक पहुँचे इत्मिनान से भरमायें ..

खुद को छुपाये...

इक दूजे की पीठों में मुँह डाले..

बिना देखे बिना भाले..

में में की आवाज़ करता झुंड शराफ़ती खुड्ड में वापस जा धँसता है...

जहां गोष्ठ में बंधी कुछ भेड़ें गरड़ियां पुराण बाँचती हैं..

ये यूँ ही युगों से घोटती आ रही हैं सीता के सतीत्व के शराफती क़िस्से..

जिसे बाँचना लिखा है इनके हिस्से..

ये बाँचती हैं सीता ने उम्र भर घोंटी घुट्टी राम की...

महज कथायें मेरे किस काम की..

गर सब कुछ राम के बस का था

फिर परीक्षा जला सच किसका था...

युगों-युगों का यह प्रश्न अब फिर है उबाल पर..

तमाम रेवड़ चुप्प हैं मेरे इस सवाल पर .....

डॉ. कविता अरोरा

Advertisment
सदस्यता लें