मोदी के संसदीय क्षेत्र में कोतवाली में गूंजा किसान आंदोलन का नारा

आज भारत बंद है ... अरविंद सिंह, कुंवर सुरेश सिंह, डॉ मोहम्मद आरिफ, हीरालाल यादव समेत कई गिरफ्तार... पूरा देश अन्नदाता के साथ मजबूती से खड़ा है।... किसानों की जायज मांगों को दबाया नहीं जा सकता।

The slogan of peasant movement echoed in Kotwali in Modi’s parliamentary constituency

भारत बंद के समर्थन में नेता उतरे सड़क पर

अरविंद सिंह, कुंवर सुरेश सिंह, डॉ मोहम्मद आरिफ, हीरालाल यादव समेत कई गिरफ्तार

आज भारत बंद है

वाराणसी, 08 दिसंबर 2020. किसान आंदोलन के समर्थन में भारत बन्द के आह्वान पर विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने सड़क पर उतर कर किसानों की मांगों के प्रति अपनी एकजुटता का प्रदर्शन करते हुए अपनी गिरफ्तारी दी। मैदागिन स्थित कम्पनी गार्डेन के सामने सड़क पर एकत्रित होकर जुलूस निकालने का प्रयास के रहे नेताओं को पुलिस ने गिरफतार कर लिया। गिरफ्तार नेताओं को पुलिस कोतवाली थाने ले गई।

गिरफ्तार नेताओं में प्रमुख रूप से पूर्व एमएलसी अरविंद सिंह, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के प्रांतीय सचिव डा हीरालाल यादव, समाजवादी नेता कुंवर सुरेश सिंह, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रांतीय सचिव राकेश पाठक, गांधीवादी सामाजिक कार्यकर्ता डा मो, आरिफ, बैंक कर्मी यूनियन के नेता शिवनाथ यादव, माकपा के जिला सचिव नंदलाल पटेल समेत कई लोग शामिल रहे।

आज सुबह अपने पूर्व घोषित एलान के मुताबिक मैदागिन स्थित टाउन हॉल के समीप ये सभी नेता जैसे ही जुलूस की शक्ल में किसानों की मांगों के समर्थन में नारे लगाते आगे बढ़े पुलिस ने घेराबंदी कर उन्हें हिरासत में ले लिया।

इस दौरान सभी लोग तीनों काले कानून वापस लो, किसान एकता जिंदाबाद, पूंजीपतियों और सरकार की तानाशाही नहीं चलेगी नहीं चलेगी आदी नारे लगा रहे थे। गिरफ्तारी के बाद ये सभी लोग कोतवाली में भी जमकर नारे लगाते रहे।

नेताओं ने कहा कि लाठी गोली और जेल के जरिये किसानों की जायज मांगों को दबाया नहीं जा सकता। पूरा देश अन्नदाता के साथ मजबूती से खड़ा है।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations