Home » Latest » योगी सरकार द्वारा एडवोकेट मोहम्मद शोएब की जमानत खारिज कराने के प्रयास की सोशलिस्ट पार्टी (इण्डिया) द्वारा निंदा
Sandeep Pandey Mohd. Shoaib

योगी सरकार द्वारा एडवोकेट मोहम्मद शोएब की जमानत खारिज कराने के प्रयास की सोशलिस्ट पार्टी (इण्डिया) द्वारा निंदा

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा एडवोकेट मोहम्मद शोएब की जमानत खारिज कराने के प्रयास की सोशलिस्ट पार्टी (इण्डिया) द्वारा निंदा

Socialist Party (India) condemns Uttar Pradesh government’s attempt to cancel Advocate Mohammad Shoaib’s bail

लखनऊ, 22 अगस्त 2020. उत्तर प्रदेश सरकार ने लखनऊ के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश के यहां दिसम्बर 2019 के नागरिकता संशोधन अधिनियम व राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा एवं तोड़-फोड़ में आरोपी (Accused of vandalism during the protests against Citizenship Amendment Act and National Register of Citizens in December 2019) बनाए गए सोशलिस्ट पार्टी (इण्डिया) के प्रदेश अध्यक्ष एडवोकेट मोहम्मद शोएब, कांग्रेस कार्यकर्ती सदफ जफर व संस्कृतिकर्मी दीपक कबीर की जमानत खारिज कराने हेतु आवेदन दिया है।

एडवोकेट मोहम्मद शोएब के खिलाफ आरोप है कि उन्होंने महात्मा गांधी की पुण्य तिथि के अवसर 30 जनवरी 2020 पर, हुसैनाबाद स्थित घंटाघर, जो लखनऊ में नागरिकता संशोधन अधिनियम व राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर के खिलाफ आंदोलन का मुख्य केन्द्र था, एक मोमबत्ती प्रदर्शन का नेतृत्व कर लोगों को अवैध प्रदर्शन में शामिल होने के लिए प्रेरित किया एवं भड़काया।

यह जानकारी देते हुए सोशलिस्ट पार्टी (इण्डिया) के उपाध्यक्ष डॉ. संदीप पाण्डेय ने कहा कि सोशलिस्ट पार्टी (इण्डिया) उ.प्र. सरकार के इस प्रयास की निंदा करती है और उसे सुझाव देती है कि सामाजिक-राजनीतिक कार्यकर्ताओं के पीछे पड़ने के बजाए प्रदेश में हत्यारों, बलात्कारियों, अपहरणकर्ताओं व धन उगाही करने वालों पर नियंत्रण स्थापित कर कानून व व्यवस्था को पटरी पर लाए जिसकी इस समय खुले आम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Demonstrations held in many places in Chhattisgarh against anti-agricultural laws

कृषि संकट से आंख चुराने वाला बजट — किसान सभा

छत्तीसगढ़ बजट 2021-22 : किसान सभा की प्रतिक्रिया Chhattisgarh Budget 2021-22: Response of Kisan Sabha …

Leave a Reply