Home » Latest » पत्रकारिता दिवस पर डॉ. कमला माहेश्वरी ‘कमल’ के कुछ दोहे
Dr. Kamla Maheshwari 'Kamal'

पत्रकारिता दिवस पर डॉ. कमला माहेश्वरी ‘कमल’ के कुछ दोहे

Some couplets of Dr. Kamla Maheshwari ‘Kamal’ on Journalism Day

💐आज पत्रकारिता दिवस पर सभी पत्रकार बन्धुओं को मेरी बहुत -बहुत शुभकामनाएं व शताधिक नमन __💐.

कुछ दोहे उन्हें समर्पित करती हूँ __

 

पत्रकारिता क्षेत्र वह, दिखलाता है साँच.

कठिन घड़ी कितनी रहे लेता है सब बाँच..

 

सत्य खोज हित छानता पर्त-पर्त वो बात.

तब ही तो है आँकता सही ग़लत औकात..

 

बड़ी बात भी सूक्तिमय लघु को करे प्रधान.

भाष्य कला को पारखी, करे नजर प्रदान..

 

सत्य शोध हित छानता गली-गलीचे धूल. तब ही पाता शोथ वह, सच्चाई के फूल..

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! 10 वर्ष से सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 
 भारत से बाहर के साथी पे पल के माध्यम से मदद कर सकते हैं। (Friends from outside India can help through PayPal.) https://www.paypal.me/AmalenduUpadhyaya

 

पग – पग पर चैलेंज हैं, लिए हथेली जान.

फिरता है बन बावला दे तब जन तह ज्ञान.

 

जैसी स्याही हो कलम, वैस ही दे रंग .

पत्रकारिता भाँति इस नियम न करती भंग.

 

डॉ.कमला माहेश्वरी कमलबदायूँ (उप्र).

 

💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

Com. Badal Saroj Chhattisgarh Kisan Sabha

मुफ्त अनाज का उठाव नहीं, जरूरतमंदों को खाद्यान्न सुरक्षा से वंचित कर रही है सरकार : किसान सभा

No lifting of free grain, the government is denying food security to the needy: Kisan …