Home » Latest » पत्रकारिता दिवस पर डॉ. कमला माहेश्वरी ‘कमल’ के कुछ दोहे
Dr. Kamla Maheshwari 'Kamal'

पत्रकारिता दिवस पर डॉ. कमला माहेश्वरी ‘कमल’ के कुछ दोहे

Some couplets of Dr. Kamla Maheshwari ‘Kamal’ on Journalism Day

?आज पत्रकारिता दिवस पर सभी पत्रकार बन्धुओं को मेरी बहुत -बहुत शुभकामनाएं व शताधिक नमन __?.

कुछ दोहे उन्हें समर्पित करती हूँ __

 

पत्रकारिता क्षेत्र वह, दिखलाता है साँच.

कठिन घड़ी कितनी रहे लेता है सब बाँच..

 

सत्य खोज हित छानता पर्त-पर्त वो बात.

तब ही तो है आँकता सही ग़लत औकात..

 

बड़ी बात भी सूक्तिमय लघु को करे प्रधान.

भाष्य कला को पारखी, करे नजर प्रदान..

 

सत्य शोध हित छानता गली-गलीचे धूल. तब ही पाता शोथ वह, सच्चाई के फूल..

 

पग – पग पर चैलेंज हैं, लिए हथेली जान.

फिरता है बन बावला दे तब जन तह ज्ञान.

 

जैसी स्याही हो कलम, वैस ही दे रंग .

पत्रकारिता भाँति इस नियम न करती भंग.

 

डॉ.कमला माहेश्वरी कमलबदायूँ (उप्र).

 

???????????

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

ऑल इंडिया पीपुल्स फ्रंट के राष्ट्रीय प्रवक्ता और अवकाशप्राप्त आईपीएस एस आर दारापुरी (National spokesperson of All India People’s Front and retired IPS SR Darapuri)

प्रयागराज का गोहरी दलित हत्याकांड दूसरा खैरलांजी- दारापुरी

दलितों पर अत्याचार की जड़ भूमि प्रश्न को हल करे सरकार- आईपीएफ लखनऊ 28 नवंबर, …