इतिहास में कुछ लोग खुद में त्रासदी होते हैं! तुम झोला उठा ही लो, भारतभूमि को गिद्धों के हवाले करना था सो कर दिया तुमने

Some people in history are tragedies in themselves

तुम झोला उठा ही लो।

तुमसे न बीमारी रुक रही है न देश चल रहा है। मजदूरों की अंतहीन कतारें और उनकी चीत्कारें तुम्हारे असमर्थ और अदूरदर्शी होने का प्रमाणपत्र बांटती हुई बढ़ी चली जा रही हैं। कुछ को राशन की किटों पर ही घरों में कैद किया है तो कुछ को वह भी नसीब नहीं हुआ। अब तो ईंधन और अन्य जरूरी चीजों से वंचित गरीब की आत्महत्या का पहला केस भी आ गया। इलाज के अभाव से मरे लोग, हादसों में मरे लोग, भूख से मरे लोग, पुलिस जुल्म से घायल हुए और बस्तियों की कैद से पागल हुए लोग तुम्हारे इस प्रमाणपत्र पर मुहर लगा रहे हैं। जिस तरह कल तुमने घोषणा कराई है कि हर क्षेत्र में देशी विदेशी कम्पनियों को मौका दोगे, उससे जाहिर हो गया है कि ‘आपदा को अवसर’ कह कर तुम किन्हें ललचा रहे थे। भारतभूमि को गिद्धों के हवाले करना था सो कर दिया तुमने। अब जाओ भी तुम।

पांच किस्तों में निर्मला सीतारमण ने बता दिया कि आपदा में अवसर से मोदी जी का आशय था – वे देशी और विदेशी निजी कंपनियों को देश के गहने-कपड़े ही नहीं बल्कि जिस्म और रूह तक लूट लेने का अवसर देने जा रहे हैं। हर क्षेत्र में निजीकरण का कल का एलान देखिये।

Madhuvan Dutt Chaturvedi मधुवन दत्त चतुर्वेदी, लेखक वरिष्ठ अधिवक्ता हैं।

हर फैसला पट्टेबाज चिलमचियों से भी गया गुजरा। इस साल मार्च 24 की शाम का एलान भी नोटबन्दी की तरह अविचारित। हीरोइज्म की बीमारी और मूर्खता की निशानी। इतिहास में कुछ लोग खुद में त्रासदी होते हैं।

जनता कर्फ्यू से लॉक डाउन-4 तक के सफर ने भी यदि आपकी मध्यवर्गीय खुमारी और फैंसी आइडियाज को आइना नहीं दिखाया है तो आप वाकई लाइलाज हैं । आप दिमागी तौर पर आदमखोर निजाम के शिकारी कुत्तों के दल में शामिल हो चुके हो।

(मधुवन दत्त चतुर्वेदी एडवोकेट की एफबी टिप्पणियों के समुच्चय के संपादित अंश)

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations