Home » समाचार » देश » भारत बचाओ रैली : सोनिया गांधी बोलीं – मोदी-शाह ने संविधान की धज्जियां उड़ाई, कैब से तार-तार हुई भारत की आत्मा
Sonia Gandhi at Bharat Bachao Rally

भारत बचाओ रैली : सोनिया गांधी बोलीं – मोदी-शाह ने संविधान की धज्जियां उड़ाई, कैब से तार-तार हुई भारत की आत्मा

नई दिल्ली, 14 दिसंबर 2019। राजधानी दिल्ली के रामलीला मैदान में कांग्रेस की भारत बचाओ रैली (Congress’s Bharat Bachao rally at Ramlila Maidan in the capital Delhi) में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला।

सोनिया गांधी ने कहा कि मोदी-शाह सरकार संविधान की धज्जियां उड़ा रही है। नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship amendment law) से भारत की आत्मा तार तार हुई है। देश में अंधेर नगरी चौपट राजा जैसा माहौल है।

सोनिया गांधी ने कहा,

‘’आज नौजवान नौकरी पाने के लिए दर दर भटक रहे हैं। दशकों से ऐसी बेरोजगारी नहीं थी, लेकिन अब हर ओर बेरोजगारी है। हम देश के लिए कठोर संघर्ष कर रहे हैं।’’

उन्होंने कहा,

‘’बेरोजगारी की वजह से अब पूरे परिवार की आत्महत्याओं की खबरें सामने आ रही हैं। आज रोजमर्रा की चीजों की कीमत महंगी होने से लोगों की नींद हाराम हो गई है।’’

Who has black money, it should be investigated – Sonia Gandhi

श्रीमती गांधी ने आगे कहा,

”हमारी माता बहनों के लिए हम संघर्ष करेंगे। आज पूरा देश पूछ रहा है कि सबका साथ-सबका विकास कहां है। मोदी की गलत नीतियों की वजह से देश बर्बाद हो रहा है।’’

उन्होंने कहा,

‘’ नोटबंदी लागू करने के बाद कालेधन को खत्म करने की बात की गई थी, लेकिन कालाधन मिला नहीं। वह कालाधन किसके पास है। इसकी जांच होनी चाहिए।’’

सोनिया ने कहा,

‘’आज जनता का पैसा बैंकों में भी सुरक्षित नहीं है। जनता अपना पैसा घर में भी नहीं रख सकती। क्या यहीं हैं मोदी के अच्छे दिन?’’ उन्होंने कहा, ‘’देश में जिसके साथ अन्याय होगा, कांग्रेस उनके साथ खड़ी रहेगी। मोदी-शाह सरकार को संविधान की परवाह नहीं है। इन लोगों को बस अपनी राजनीति की परवाह है। लोगों को लड़ाओं और राजनीति करो।’’

We are ready to sacrifice anything to protect democracy – Sonia Gandhi

सोनिया ने कहा,

‘’लोकतंत्र की रक्षा के लिए हम कोई भी कुरबानी देने को तैयार हैं। जनता की रक्षा करने के लिए कांग्रेस ने हमेशा लड़ाई लड़ी है। आज भी कांग्रेस पीछे हटने वाली नहीं है। हम अंतिम सांस तक संविधान और लोकतंत्र की रक्षा के लिए अपना कर्तव्य निभाते रहेंगे।’

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

paulo freire

पाओलो फ्रेयरे ने उत्पीड़ियों की मुक्ति के लिए शिक्षा में बदलाव वकालत की थी

Paulo Freire advocated a change in education for the emancipation of the oppressed. “Paulo Freire: …

Leave a Reply