Home » समाचार » कानून » पीड़ा स्थल को पर्यटन स्थल समझ रही है सपा, अखिलेश ने मुसलमानों के जले पर नमक छिड़का : शाहनवाज आलम
उत्तर प्रदेश कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम (Shahnawaz Alam, Chairman, State Congress Minority Department)

पीड़ा स्थल को पर्यटन स्थल समझ रही है सपा, अखिलेश ने मुसलमानों के जले पर नमक छिड़का : शाहनवाज आलम

सपा और इस पूरे पारिवारिक गिरोह को मुसलमानों के उत्पीड़न पर आनन्द आता है

लखनऊ 22 जनवरी। प्रदेश कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम (Shahnawaz Alam, Chairman, State Congress Minority Department) ने समाजवादी पार्टी के मुखिया एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का बयान कि उनकी बेटी चैक-घण्टाघर सिर्फ घूमने गई थी (The statement of Samajwadi Party chief and former Chief Minister Akhilesh Yadav that his daughter had only gone to Chowk-Ghantaghar to roam), पर कड़ा ऐतराज जताते हुए कहा है कि ये पीड़ा स्थल को पर्यटन स्थल समझने जैसा ही नहीं है, यह मुसलमानों के जले पर नमक छिड़कने जैसा है।

श्री आलम ने यहां जारी बयान में कहा कि जहां पूरा भारतीय समाज संविधान विरोधी और समाज विरोधी कानून सीएए-एनआरसी एवं एनपीआर के खिलाफ उद्वेलित है और सड़कों पर संविधान बचाने के लिए संघर्ष कर रहा है, जिसमें हमारा पूरा समाज, हमारी बहन-बेटियां संविधान की सुरक्षा के लिए चौक-घण्टाघर पर सत्याग्रह कर रही हैं, अच्छा होता कि समाजवादी पार्टी संविधान बचाने की इस लड़ाई में जनता के साथ खुलकर समर्थन करती और जनपीड़ा की भागीदार बनती किन्तु ऐसा न करके अखिलेश यादव ने पूरे मुस्लिम समाज को पीड़ा पहुंचाने का काम किया है।

श्री आलम ने कहा कि जब मुजफ्फरनगर में मुस्लिम समाज को दंगे में निशाना बनाकर उन्हें भीषण ठण्ड में खुले में टेन्ट में रहने के लिए मजबूर किया गया था तब भी समाजवादी पार्टी का पूरा परिवार सैफई में नाच-गाने में व्यस्त होकर खुशियां मना रहा था जो साबित करता है कि सपा और इस पूरे पारिवारिक गिरोह को मुसलमानों के उत्पीड़न पर आनन्द आता है यह अब पूरा मुस्लिम समाज समझ चुका है।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

world aids day

जब सामान्य ज़िंदगी जी सकते हैं एचआईवी पॉजिटिव लोग तो 2020 में 680,000 लोग एड्स से मृत क्यों?

World AIDS Day : How can a person living with HIV lead a normal life? …

Leave a Reply