पीड़ा स्थल को पर्यटन स्थल समझ रही है सपा, अखिलेश ने मुसलमानों के जले पर नमक छिड़का : शाहनवाज आलम

सपा और इस पूरे पारिवारिक गिरोह को मुसलमानों के उत्पीड़न पर आनन्द आता है

लखनऊ 22 जनवरी। प्रदेश कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम (Shahnawaz Alam, Chairman, State Congress Minority Department) ने समाजवादी पार्टी के मुखिया एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का बयान कि उनकी बेटी चैक-घण्टाघर सिर्फ घूमने गई थी (The statement of Samajwadi Party chief and former Chief Minister Akhilesh Yadav that his daughter had only gone to Chowk-Ghantaghar to roam), पर कड़ा ऐतराज जताते हुए कहा है कि ये पीड़ा स्थल को पर्यटन स्थल समझने जैसा ही नहीं है, यह मुसलमानों के जले पर नमक छिड़कने जैसा है।

श्री आलम ने यहां जारी बयान में कहा कि जहां पूरा भारतीय समाज संविधान विरोधी और समाज विरोधी कानून सीएए-एनआरसी एवं एनपीआर के खिलाफ उद्वेलित है और सड़कों पर संविधान बचाने के लिए संघर्ष कर रहा है, जिसमें हमारा पूरा समाज, हमारी बहन-बेटियां संविधान की सुरक्षा के लिए चौक-घण्टाघर पर सत्याग्रह कर रही हैं, अच्छा होता कि समाजवादी पार्टी संविधान बचाने की इस लड़ाई में जनता के साथ खुलकर समर्थन करती और जनपीड़ा की भागीदार बनती किन्तु ऐसा न करके अखिलेश यादव ने पूरे मुस्लिम समाज को पीड़ा पहुंचाने का काम किया है।

श्री आलम ने कहा कि जब मुजफ्फरनगर में मुस्लिम समाज को दंगे में निशाना बनाकर उन्हें भीषण ठण्ड में खुले में टेन्ट में रहने के लिए मजबूर किया गया था तब भी समाजवादी पार्टी का पूरा परिवार सैफई में नाच-गाने में व्यस्त होकर खुशियां मना रहा था जो साबित करता है कि सपा और इस पूरे पारिवारिक गिरोह को मुसलमानों के उत्पीड़न पर आनन्द आता है यह अब पूरा मुस्लिम समाज समझ चुका है।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations