Home » समाचार » देश » विशेष ओलंपिक भारत के मेगा हेल्थ फेस्ट का आयोजन संपन्न
special olympics india

विशेष ओलंपिक भारत के मेगा हेल्थ फेस्ट का आयोजन संपन्न

Special Olympics India’s mega health fest concludes

600 विशेष ओलिंपिक एथलीटों का स्वास्थ्य जांच एवं प्रशिक्षण किया गया

नई दिल्ली, 05 अप्रैल 2022. आजादी का अमृत महोत्सव के तहत विशेष ओलंपिक भारत द्वारा आज कड़कड़डूमा दिल्ली में एक राष्ट्रीय स्वास्थ्य शिविर लगाया गया जिसे मेगा हेल्थ फेस्ट का नाम दिया गया। 5 अप्रैल को सुबह 8 बजे से सायं 5:00 बजे तक अमर ज्योति स्कूल, कड़कड़डूमा, दिल्ली में चले इस विशेष कैंप में कुल 600 एथलीटों की स्वास्थ्य जांच की गयी।

इस मौके पर आयोजित समारोह के मुख्य अतिथि केंद्रीय भारी उद्योग मंत्री डॉ महेंद्र नाथ पांडे एवं केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग तथा नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह रहे। यह जानकारी देते हुए यशोदा सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल के कॉरपोरेट कम्युनिकेश हेड गौरव पांडेय ने बताया कि, यशोदा सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, कौशाम्बी के डायरेक्टर डॉ उपासना अरोड़ा एवं प्रबंध निदेशक डॉ पी एन अरोड़ा के कुशल निर्देशन में यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल,कौशांबी, गाजियाबाद के डॉक्टरों एवं टीम द्वारा स्वास्थय जांच कार्यक्रम आयोजित किया गया।

कार्यक्रम के प्रथम चरण के मुख्य अतिथि केंद्रीय राज्य मंत्री जनरल वी के सिंह ने कहा क़ि यह शिविर आजादी का अमृत महोत्सव के तहत विशेष ओलंपिक भारत द्वारा, खेल मंत्रालय भारत सरकार की गई एक सकारात्मक पहल है, जिसके तहत राष्ट्रीय स्वास्थ्य शिविर का आयोजन देशव्यापी पैमाने पर किया जा रहा है।

जनरल वीके सिंह ने कहा क़ि फौज में भी हम इस तरह का अभियान चलाते हैं जिसमें युद्ध में या अभ्यास के दौरान घायल हुए सैनिकों को उनकी किसी भी प्रकार की विकलांगता को ध्यान में रखते हुए उन्हें विशेष प्रशिक्षण दिया जाता है और उन्हें खेलों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है जिससे कि उनकी शारीरिक क्षमता को पुनः उसी तरह का बनाया जा सके जैसे कि पहले थी।

उन्होंने कहा क़ि पैरालम्पिक गेम्स एक प्रमुख अंतरराष्ट्रीय मल्टी-स्पोर्ट इवेंट है, जिसमें शारीरिक अक्षमता के साथ एथलीटों को शामिल किया गया है, जिसमें विकलांगताएं वाली मांसपेशियों की शक्ति, गतिहीन निष्क्रिय सीमाएं, अंग की कमी, पैर की लंबाई में भिन्नता, लघु कद, हाइपरटोनिया, एनेटिक्स, अस्थिटोसिस, दृष्टि हानि और बौद्धिक हानि आदि प्रमुख हैं।

कार्यक्रम के द्वितीय चरण के मुख्य अतिथि केंद्रीय भारी उद्योग मंत्री डॉ महेंद्र नाथ पांडे ने कहा क़ि यह एक बहुत ही सराहनीय पहल है कि यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल इस राष्ट्रीय स्वास्थ्य शिविर का आयोजन देशव्यापी पैमाने पर कर रहा है। ऐसी पहलों से मैंने बहुत से ऐसे बच्चों की थोड़े से ही प्रोत्साहन से अपने जीवन में और अपने आस पास के लोगों के लिए एक बहुत बड़ा उदाहरण बनते हुए देखा है। इन एथलीटों को विकसित करने और बनाने में मदद करने के लिए विशेष ओलंपिक भारत द्वारा किये गए इस पहल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यह देश को अत्यंत गौरव एवं ख्याति की प्राप्ति होगी, ऐसी मेरा अनुमान, मंशा एवं शुभकामनाएं हैं।

डॉ पाण्डे ने कहा क़ि प्रधानमंत्री जी ने बहुत सराहनीय कदम उठाया इन्हें दिव्यांग नाम देकर। पहले विकलांग बोलने से हीन भावना आती थी लेकिन अब इनको समाज में एक नयी पहचान मिली है। इन सब के हुनर को पहचान मिली है और अब ये देश का नाम रौशन करेंगे।

हॉस्पिटल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ सुनील डागर ने बताया कि इन विशेष एथलीट बच्चों को प्रोत्साहित एवं प्रशिक्षित करने के लिए यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल कौशाम्बी के वरिष्ठ डॉक्टरों ने विशेष ओलंपिक स्क्रीनिंग और छह स्वास्थ्य विषयों जैसे आंखों की देखभाल, मौखिक स्वास्थ्य, हड्डी एवं जोड़ रोग स्वास्थ्य, बाल रोग, भौतिक चिकित्सा, पोषण से सम्बंधित जाचें की एवं परामर्श दिया गया।

कार्यक्रम में स्थानीय विधायक ओम प्रकाश शर्मा, महापौर, पूर्वी दिल्ली एवं अन्य अमर ज्योति चैरिटेबल स्कूल की श्रीमती उमा तुली जी विशेष रूप से मौजूद थीं।

कार्यक्रम का उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाली बहु खेल प्रतियोगिता के लिए खिलाड़ियों को तैयार और प्रेरित करना था। पैरा ओलंपिक खेल शारीरिक रूप अथवा मानसिक रूप से विकलांग खिलाड़ियों द्वारा खेले जाते हैं और इसका प्रचलन द्वितीय विश्वयुद्ध के घायल सैनिकों को फिर से मुख्यधारा में लाने के मकसद से इसकी शुरुआत हुई।

डॉ उपासना अरोड़ा ने बताया क़ि कार्यक्रम का उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाली बहु खेल प्रतियोगिता के लिए खिलाड़ियों को तैयार और प्रेरित करना था। बता दें क़ि पैरा ओलंपिक खेल शारीरिक रूप अथवा मानसिक रूप से विकलांग खिलाड़ियों द्वारा खेले जाते हैं और इसका प्रचलन द्वितीय विश्वयुद्ध के घायल सैनिकों को फिर से मुख्यधारा में लाने के मकसद से इसकी शुरुआत हुई।

उन्होंने कहा क़ि भारत में 75000 विशेष ओलिंपिक एथलीटों की जांच एवं प्रशिक्षण का लक्ष्य पूरा कर लिया गया है और 78000 से ज्यादा रजिस्ट्रेशन 5 अप्रैल तक हो चुके हैं।

विशेष ओलंपिक भारत, एक मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय खेल संघ, युवा मामले और खेल मंत्रालय के तहत खेल के माध्यम से बौद्धिक विकलांग बच्चों और वयस्कों के खेल और अन्य जीवन कौशल के विकास के लिए काम करता है जिसके संस्थापक अध्यक्ष एयर मार्शल डेन्ज़िल कीलोर (सेवानिवृत्त) हैं।

विशेष ओलंपिक भारत की अध्यक्ष डॉ. मल्लिका नड्डा हैं, उन्होंने बताया क़ि विशेष ओलंपिक भारत राष्ट्रीय खेल संघ, युवा मामले और खेल मंत्रालय के तहत खेल के माध्यम से बौद्धिक विकलांग बच्चों और वयस्कों के खेल और अन्य जीवन कौशल के विकास के लिए काम करता है।

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

headlines breaking news

एक क्लिक में आज की बड़ी खबरें । 25 मई 2022 की खास खबर

ब्रेकिंग : आज भारत की टॉप हेडलाइंस Top headlines of India today. Today’s big news …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.