Home » Latest » राष्ट्रीय संकट के समय में फेक न्यूज़ चलाने जैसा राष्ट्रविरोधी कार्य करने वाले चैनलों तथा न्यूज़ एजेंसी के खिलाफ हो कड़ी कार्यवाही – दारापुरी
S.R. Darapuri एस आर दारापुरी,

राष्ट्रीय संकट के समय में फेक न्यूज़ चलाने जैसा राष्ट्रविरोधी कार्य करने वाले चैनलों तथा न्यूज़ एजेंसी के खिलाफ हो कड़ी कार्यवाही – दारापुरी

Strict action should be taken against channels and news agencies running fake news – Darapuri

कोरोना संक्रमण की खबरों में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश का हो पालन | Follow the instructions of the Supreme Court in the news of corona infection

लखनऊ 9 अप्रैल, 2020 . “कोरोना संक्रमण के सम्बंध में छापी या न्यूज चैनलों पर दिखाई जा रही खबरों में पुलिस व प्रशासन के पक्ष को भी देने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश का शत प्रतिशत अनुपालन कराया जाए और इसका उल्लंघन कर फेक न्यूज चलाने  वाले चेनलों तथा समाचार पत्रों व न्यूज़ एजेंसी के खिलाफ केस दर्ज कर कडी कार्यवाही की जाए। ताकि समाज में वैमनस्यता व साम्प्रदायिकता को रोका जा सके और पूरा देश एकजुट होकर इस संकट का सामना कर सके।“

यह बात आज एस आर दारापुरी आईपीएस (से.नि.) राष्ट्रीय प्रवक्ता, आल इंडिया पीपुल्स फ्रंट ने मुख्य मंत्री उत्तर प्रदेश को प्रेषित पत्र में कही है.

उन्होंने कहा है की पिछले दिनों कुछ टीवी चैनलों तथा एक न्यूज़ एजंसी द्वारा सहारनपुर, फिरोजाबाद तथा इलाहबाद में कोरोना के मरीजों के लेकर फेक न्यूज़ चलाई गयी थी, जिसे पुलिस ने जांच से झूठा पाया था तथा इन चैनलों को अपने टवीट हटाने के लिए आदेश दिया था. यह सर्वविदित है कि इन चैनलों/एजेंसी द्वारा चलाई गयी फेक न्यूज़ का सामाजिक सौहार्द पर बहुत बुरा असर पड़ा है. इतना ही नहीं इन फेक न्यूज़ से एक तबके के खिलाफ दूसरे तबकों में तीव्र घृणा एवं विद्वेष भी पैदा हुआ है.

यह विचारणीय है कि इस समय जब देश कोरोना की महामारी से लड़ रहा है जिसमें समाज के सभी तबकों के सहयोग तथा सामजिक सौहार्द की आवश्यकता है तो ऐसे समय में फेक न्यूज़ चला कर सामाजिक सौहार्द को बिगाड़ना बहुत घातक हो सकता है, जोकि क्षम्य नहीं है.

यह भी देखने की बात है कि क्या ऐसे राष्ट्रीय संकट के समय में ऐसा राष्ट्रविरोधी कार्य करने वालों को केवल अपना ट्वीट डिलीट करने के लिए कह कर छोड़ देना पर्याप्त है? महाराष्ट्र सरकार ने ऐसे न्यूज चैनलों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज किया है। स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार ने भी कल कोरोना के नाम पर सामाजिक वैमनस्य न फैलाने की अपील की है।

अतः आल इंडिया पीपुल्स फ्रंट जनहित एवं राष्ट्रहित में मांग करता है फेक न्यूज़ चलाने वाले चैनलों तथा न्यूज़ एजंसी के विरुद्ध केस दर्ज करके कड़ी कार्यवाही करनी चाहिए।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

rajat sharma ekal

एकल ने शिक्षा के ज़रिए जगायी अलख- रजत शर्मा

नई दिल्ली, 07 मार्च 2021. एकल ने शिक्षा-संस्कार के क्षेत्र में नए कीर्तिमान स्थापित किए …