यूपी में प्रताड़ित भर्ती के प्रतिभागी छात्र, प्रियंका ने जताई नाराजगी

यूपी कृषि प्राविधिक सहायक भर्ती 2018 के प्रतिभागी छात्र - छात्राएं एक बार फिर यूपी सरकार की लापरवाही की मार झेल रहे हैं। प्रियंका गांधी ने जताई नाराजगी

लखनऊ, 09 दिसंबर 2020. कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश में यूपी कृषि प्राविधिक सहायक भर्ती 2018 के प्रताड़ित छात्र-छात्राओं के मुद्दे को उठाते हुए प्रदेश सरकार से अपनी नाखुशी जाहिर की है।

श्रीमती गांधी ने अपने सत्यापित फेसबुक पेज पर लिखा,

“यूपी कृषि प्राविधिक सहायक भर्ती 2018 के प्रतिभागी छात्र – छात्राएं एक बार फिर यूपी सरकार की लापरवाही की मार झेल रहे हैं।

2018 में इस नियुक्ति का फॉर्म आता है।

2019 में इस नियुक्ति के लिए परीक्षा होती है।

2020 में प्रतियोगी छात्र – छात्राओं द्वारा लगातार आवाज उठाने के बाद  उनका रिजल्ट आता है।

डॉक्यूमेंट वेरीफिकेशन हो चुका है लेकिन अभी तक चयनित अभ्यर्थियों की लिस्ट रुकी पड़ी है।

सरकार अपने द्वारा बांटी गई नौकरियों की लिस्ट में ये सारी नौकरियां जोड़ रही है जिनमें अभी तक प्रतियोगी छात्र – छात्राओं को नियुक्ति तक नहीं मिली है।

इधर नौकरियों के लिए मेहनत कर परीक्षा पास करने वाले प्रतियोगी छात्र – छात्राओं का हाल बुरा है। कुछ अवसाद में चले गए हैं तो कुछ पर कर्जा हो गया है।

आशा है कि सरकार जल्द इस पर उचित कार्रवाई करेगी।“

प्रियंका की इस पोस्ट पर एक फेसबुक उपभोक्ता अवधेश चैधरी ने टिप्पणी की – देश दल दल में फंस चुका है। जबकि एक अन्य उपभोक्ता नरेंद्र राजभर ने टिप्पणी की – यूपी सरकार बेसिक प्राइमरी टीचर का ट्रांसफर एक साल से ऊपर हो गया नहीं कर रही है 54000 परिवार पीड़ित है।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations