Home » Latest » सरकार युवाओं को नौकरी की जगह अपमान और बेरोजगारी दे रही है: राहुल – प्रियंका
Rahul Gandhi

सरकार युवाओं को नौकरी की जगह अपमान और बेरोजगारी दे रही है: राहुल – प्रियंका

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी तथा महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Former Congress President Rahul Gandhi and General Secretary Priyanka Gandhi Vadra) ने कहा है कि देश के युवा सरकार से नौकरी मांग रहे हैं लेकिन उन्हें अपमान और बेरोजगारी दी जा रही है

नई दिल्ली, 12 मार्च 2021। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी तथा महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि देश के युवा सरकार से नौकरी मांग रहे हैं लेकिन उन्हें अपमान और बेरोजगारी दी जा रही है।

राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने शुक्रवार को ‘छात्र चाहते हैं नौकरी’ अभियान #StudentsWantJobs के दौरान सरकार की तीखी आलोचना की और कहा कि देश के जिन युवाओं को हर साल दो करोड़ नौकरी देने का वादा किया गया था उन युवाओं के सपनों को कुचला जा रहा है।

सोशल मीडिया पर ‘छात्र मांगे नौकरी’ अभियान के तहत राहुल गांधी ने ट्वीट किया

“लेकिन सरकार दे रही है-पुलिस के डंडे,वॉटर गन की बौछार, राष्ट्रविरोधी होने का टैग और बेरोज़गारी।”

प्रियंका गांधी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने सत्ता में आने से पहले देश में हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने का वादा किया था लेकिन आज रोजगार की स्थिति यह है –

“बेरोजगारी पिछले 45 साल के चरम पर है, 28 लाख सरकारी नौकरियों के पद खाली हैं, भर्ती, इम्तिहान, परिणाम और ज्वाइनिंग का नामोनिशान नहीं।”

कांग्रेस की उत्तर प्रदेश की प्रभारी महासचिव ने इससे पहले राज्य की योगी सरकार पर हमला किया और कहा,

“ विज्ञापन की सरकार, झूठा सारा प्रचार, ट्विटर पर बांटे नौकरी, युवा को किया दरकिनार। योगी जी, ये जो पब्लिक है, सब जानती है। उत्तर प्रदेश के युवाओं से 70 लाख नौकरियों का वादा था मगर लाखों पद खाली पड़े हैं। युवा भर्तियों, परिणामों और ज्वाइनिंग का इंतजार करते-करते परेशान हैं।”

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

dr. bhimrao ambedkar

65 साल बाद भी जीवंत और प्रासंगिक बाबा साहब

Babasaheb still alive and relevant even after 65 years क्या सिर्फ दलितों के नेता थे …

Leave a Reply