Home » Latest » कार्बोहाइड्रेड की अधिक मात्रा से हो सकता है दोबारा कैंसर का कारण : शोध
Health News

कार्बोहाइड्रेड की अधिक मात्रा से हो सकता है दोबारा कैंसर का कारण : शोध

High carbohydrate intake may increase cancer recurrence risk

The study explores carbohydrates’ impact on head, neck cancers

नई दिल्ली। भोजन में कार्बोहाइड्रेट और शुगर की मात्रा (Carbohydrate and Sugar in Food) अधिक होने से सिर और गले के कैंसर के उपचाराधीन मरीज को दोबारा कैंसर का खतरा बढ़ सकता है और वह मौत का कारण बन सकता है। यह बात एक शोध में सामने आई है।

कैंसर और कार्बोहाइड्रेट का संबंध | Cancer and carbohydrate relationship

शोध में पाया गया है कि कैंसर का इलाज (Cancer treatment) से पहले के साल में जिन्होंने कार्बोहाइड्रेट और सुक्रोज, फ्रक्टोज, लैक्टोज और माल्टोज के रूप में शुगर ज्यादा लिया, उनमें मृत्यु का खतरा अधिक होता है।

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ कैंसर (International Journal of Cancer) में पिछले दिनों प्रकाशित अध्ययन में कैंसर के 400 मरीजों में 17 फीसदी से अधिक मरीजों में कैंसर की पुनरावृत्ति दर्ज की गई, जबकि 42 फीसदी की मौत हो गई।

Associations among carbohydrate intake and patient outcomes differed by cancer type and stage

अरबाना शैंपैन स्थित इलिनोइस विश्वविद्यालय में प्रोफेसर और प्रमुख शोधकर्ता अन्ना ई. आर्थर के मुताबिक कार्बोहाइड्रेट खाने वाले मरीजों और अन्य मरीजों में कैंसर के प्रकार और कैंसर के चरण में अंतर पाया गया।

हालांकि उपचार के बाद कम मात्रा में वसा और अनाज, आलू जैसे स्टार्च वाले भोजन खाने वाले मरीजों में बीमारी की पुनरावृत्ति व मौत के खतरे कम हो सकते हैं।

कौन हैं अन्ना ई. आर्थर | Anna E. Arthur

पोषण और कैंसर में सहायक पोषण और सिल्विया डी. स्ट्रोग स्कॉलर में सहायक प्रोफेसर हैं। वह पोषण के माध्यम से कैंसर का निदान करने वाले वयस्कों के जीवन, समग्र स्वास्थ्य और दीर्घायु की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए काम कर रही हैं। उनका शोध कैंसर के निदान के बाद स्वास्थ्य के परिणामों को निर्धारित करने और अंतर्निहित जैविक तंत्र को स्पष्ट करने में पोषण की भूमिका पर केंद्रित है।

Corona virus In India Jharkhand Assembly Election Latest Videos असम विधानसभा चुनाव 2021 आपकी नज़र एडवरटोरियल/ अतिथि पोस्ट कानून खेल गैजेट्स ग्लोबल वार्मिंग चौथा खंभा जलवायु परिवर्तन जलवायु विज्ञान तकनीक व विज्ञान दुनिया देश पर्यटन पर्यावरण बजट 2020 बजट 2021 मनोरंजन राजनीति राज्यों से लाइफ़ स्टाइल व्यापार व अर्थशास्त्र शब्द संसद सत्र समाचार सामान्य ज्ञान/ जानकारी साहित्यिक कलरव स्तंभ स्वास्थ्य हस्तक्षेप

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

health impact

नयी नीतियां बनाने के साथ वर्तमान नीतियों का क्रियान्‍वयन भी जरूरी : विशेषज्ञ

Along with making new policies, implementation of existing policies is also necessary: Expert मुंबई, 2 मार्च 2021.. विशेषज्ञों, सिविल सोसायटी …

Leave a Reply