Home » Latest » घर से बुलेटिन कर रही हैं सुमैरा खान
sumaira khan

घर से बुलेटिन कर रही हैं सुमैरा खान

Sumaira Khan is doing bulletin from home

नई दिल्ली, 22 मार्च 2020. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जनता कर्फ्यू की अपील (Prime Minister Narendra Modi’s appeal for Janta curfew) का मीडिया संस्थानों पर कुछ ज्यादा ही असर हुआ है। हिंदी चैनल TV9 भारतवर्ष TV9Bharatvarsh की टीम आज अपने घरों से ही बुलेटिन का प्रसारण कर रही है। यह जानकारी स्वयं TV9 भारतवर्ष की प्राइम टाइम एंकर सुमैरा खान ने ट्विटर पर साझा की है।

उन्होंने ट्वीट किया

“आज tv9bharatvarsh ने बहुत जिम्मेदारी दिखाते हुए एक बड़ी कोशिश की है। आज हम अपने घर से बुलेटिन करेंगे। हम नरेंद्र मोदी पीएमओ इंडिया के साथ हैं। हम देश के साथ हैं #JantaCurfew में. आप भी अपनी जिम्मेदारी निभाएं. #JantaCurfewMarch22”

सुमैरा खान देश की चुनिन्दा एंकर्स में शुमार की जाती हैं।

 


कोरोना से लड़ने के लिए पीएम मोदी के जनता कर्फ्यू आइडिया से हैरान हैं वैज्ञानिक और डॉक्टर, शर्मिंदा हैं अपनी पढ़ाई पर !

कोरोना वायरस : सोशल डिस्टेंसिंग पर अमल के लिए क्या प्रधानमंत्री वाकई गंभीर हैं? इतने गंभीर संकट पर भी जुमलेबाजी !

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

नरभक्षियों के महाभोज का चरमोत्कर्ष है यह

पलाश विश्वास वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं। आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की …