Home » Latest » सुंदरलाल बहुगुणा 100 साल जिएं, देश की जनता पर्यावरण चेतना से लैस हो
sunderlal bahuguna

सुंदरलाल बहुगुणा 100 साल जिएं, देश की जनता पर्यावरण चेतना से लैस हो

Sunderlal Bahuguna should live for 100 years, the people of the country should be equipped with environmental consciousness

राजीव नयन बहुगुणा से जून महीने में अपने पिता पर लिखने को कहा है। चिपको सन्त सुंदरलाल बहुगुणा जीवन भर पर्यावरण जागरूकता के लिए काम करते रहे।

पर्यावरण जागरूकता सबसे जरूरी काम है, जिसकी गैरमौजूदगी ही कोरोना महामारी, कोरोना राजनीति और कोरोना बिज़नेस की असल वजह है।

हिमालय में ग्लेशियर सूखने की वजह से गंगोत्री में बनते मरुस्थल देखकर करीब एक दशक से पृथ्वी और प्रकृति के संकट के मद्देनजर उन्होंने अन्न छोड़ दिया है।

उनका आन्दोलन जमीन इतना जरूरी लगता है कि 2014 में कोलकाता से देहरादून पहुंच कर उनका इंटरव्यू सिर्फ इसलिए किया था, क्योंकि बड़े पैमाने पर चिपको आंदोलन के साथी एनजीओ के जरिये विदेशी फंड के बदले पहाड़ के सत्यानाश करने लगे हैं, जिनमें हमारे अनेक प्रिय साथी भी शामिल है।

Sunderlal Bahuguna (सुन्दरलाल बहुगुणा) Indian environmentalist

हमारे विचार से हर सामाजिक राजनीतिक कार्यकर्ता को बहुगुणा जी की तरह पर्यावरण कार्यकर्ता होना चाहिए।

वे सुंदरलाल बहुगुणा इस वक्त गम्भीर रूप से अस्वस्थ हैं। सौ साल के होने वाले हैं बहुत जल्द, यह बेहद चिंता की बात है।

राजीव नयन दाज्यू का गुस्सा वाजिब है।

एक व्यक्ति की राजनीतिक महत्वाकांक्षा की भारी कीमत चुकाने को बेमौत मौत और तबाही के शिकंजे में हैं इस देश के 138 करोड़ लोग।

हस्तक्षेप परिवार की ओर से सुंदरलाल बहुगुणा के स्वस्थ होने की कामना करते हैं, हम और उम्मीद करते हैं कि वे सौ साल तक जरूर जियें और देश की जनता पर्यावरण चेतना से लैस हो।

पलाश विश्वास

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

kanshi ram's bahujan politics vs dr. ambedkar's politics

बहुजन राजनीति को चाहिए एक नया रेडिकल विकल्प

Bahujan politics needs a new radical alternative भारत में दलित राजनीति के जनक डॉ अंबेडकर …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.