कोविड ने दिया ऊर्जा रूपांतरण के जरिये हरित अर्थव्‍यवस्‍था बनाने का सुनहरा मौका : विशेषज्ञ

Environment and climate change

COVID gave a golden opportunity to build a green economy through energy conversion Green economy means sustainable employment with growth दुनिया भर में पिछले कई महीनों से कोविड-19 महामारी (COVID-19) ने पूरे विश्व को अस्थिर सा कर दिया है इससे दुनिया एक वैश्विक महामंदी के दौर की तरफ बढ़ रही है इसे रोकने के लिए

अक्षय ऊर्जा अपनाने से वर्ष 2050 तक 50 लाख उत्‍तर भारतीयों को मिल सकता है रोजगार – रिपोर्ट

Environment and climate change

नयी दिल्‍ली, 8 सितम्‍बर, 2020: फिनलैंड की लापीनराटा-लाटी यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्‍नॉलॉजी– lappeenranta-lahti university of technology finland (एलयूटी- LUT University) और दिल्‍ली स्थित क्‍लाइमेट ट्रेंड्स (Climate Trends based in Delhi) के आज जारी एक अध्‍ययन में दावा किया गया है कि वर्ष 2050 तक उत्‍तर भारत की ऊर्जा प्रणाली (North India’s energy system) को 100 फीसद

कृषि को मिलेगी ‘सौर-वृक्ष’ की नयी ऊर्जा

solar tree

Agriculture will get new energy of ‘solar tree’ नई दिल्ली, 02 सितंबर (इंडिया साइंस वायर): भारत की उत्तरोत्तर बढ़ती ऊर्जा आवश्यकता पारंपरिक ऊर्जा-स्रोतों (Conventional energy sources) के लिए एक कठिन चुनौती है। इस दिशा में प्रकृति सुलभ सौर-ऊर्जा एक बड़ी और प्रभावी भूमिका निभा सकती है। लेकिन, सौर-ऊर्जा बनाने वाले सोलर पैनल के लिए बड़ा

मोदी सरकार की कोयला नीति को करारा झटका, यूएन महासिव ने कहा भारत को अब कोयला में नये निवेश करने की ज़रूरत नहीं

एंटोनियो गुटेरेस संयुक्त राष्ट्र के महासचिव, António Guterres Secretary-General of the United Nations

UN Chief Urges India To Kill Fossil Fuel Subsidies, End Coal Pledges After 2020 नई दिल्ली, 28 अगस्त 2020. भारत में अगस्त महीने का यह आख़िरी हफ़्ता जलवायु परिवर्तन के ख़िलाफ़ छिड़ी जंग (Rust against climate change) की दशा और दिशा निर्धारित करने की नज़र से बेहद महत्वपूर्ण साबित हो रहा है। जहाँ आज, 28

क्या आपदा को विपदा बनने का अवसर दे रहे हैं विश्व के कोविड रिकवरी पैकेज ?

Environment and climate change

नई दिल्ली, 24 जुलाई 2020. पूरी दुनिया में आपदा को अवसर बनाने की बात हो रही है। लेकिन बात अगर पर्यावरण की हो तो यह आपदा अब विपदा बनती दिख रही है। कम-से-कम विविड इकोनॉमिक्स (UK consultancy Vivid Economics,) की इस ताज़ा रिपोर्ट से तो ये ही समझ आता है। ग्रीन स्टिम्युलस इंडेक्स (Green Stimulus