मोदीजी के नए भारत (जो संविधान का तख्ता-पलट करके बनाया जा रहा) से ‘हमें आजादी चाहिए और हम आजादी लेंगे’

Dr. Lohia

भारत छोड़ो आंदोलन की चेतना के मायने अगस्त क्रांति (August revolution) के नाम से मशहूर और भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास में मील का पत्थर माने जाने वाले भारत छोड़ो आंदोलन की 78वीं सालगिरह (Quit India Movement’s 78th Anniversary) 9 अगस्त 2020 को है. भारतीय जनता की स्वतंत्रता की तीव्र इच्छा से प्रेरित इस

भारत छोड़ो आंदोलन 1942 से ग़द्दारी की कहानी; आरएसएस और सावरकर की ज़बानी

Quit India Movement

  कांग्रेस का आह्वान इस 8 अगस्त 2020 को भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के एक अहम मील के पत्थर, ऐतिहासिक ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ जिसे ‘अगस्त क्रांति‘ भी कहा जाता है को 78 साल पूरे हो जायेंगे। 7 अगस्त 1942 को अखिल भारतीय कांग्रेस समिति ने बम्बई में अपनी बैठक में एक क्रांतिकारी प्रस्ताव पारित किया, जिसमें अंग्रेज

अगस्त क्रांति के गुनहगार : हिंदुत्व टोली, एक गद्दारी – भरी दास्तान

syama prasad mukherjee in hindi

प्रो. शम्सुल इस्लाम का यह आलेख (Article by professor shamsul islam) “अंग्रेज़ों भारत छोड़ो आंदोलन 1942 और हिंदुत्व टोली : एक गद्दारी – भरी दास्तान” मूलतः हस्तक्षेप पर 09 अगस्त 2018 को प्रकाशित हुआ था। हस्तक्षेप को पाठकों के लिए आज दिनांक 23-06-2020 को मूल लेख का संपादित रूप पुनर्प्रकाशन इस 9 अगस्त 2018 को भारतीय