मीलॉर्ड ! कामरा ही नहीं, इन परिस्थितियों में तो अब आम आदमी की भी ऐसी ही धारणा है ?

Supreme court of India

कामरा ने सीधी सादी बात में यही तो कहा है कि सुप्रीम कोर्ट गरीबों की उपेक्षा कर अमीरों के लिए काम कर रहा है। क्या सुप्रीम किसी गरीब के साथ न्याय कर पा रहा है ? क्या अमीर सुप्रीम कोर्ट का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं ?