जंग−ए−आजादी के महानायक अशफ़ाक़ुल्लाह ख़ाँ

Ashfaqulla Khan and Ram Prasad Bismil

अशफ़ाक उल्ला खां एक बेहतरीन उर्दू शायर/कवि थे। अपने तखल्लुस (उपनाम) ‘वारसी’ और ‘हसरत’ से वह उर्दू शायरी और गजलें लिखते थे। वह हिंदी और अंग्रेजी में भी लिखते थे। अपने अंतिम दिनों में उन्होंने कुछ बहुत प्रभावी पंक्तियां लिखीं, जो उनके बाद स्वतंत्रता के लिए संघर्ष कर रहे लोगों के लिए मार्गदर्शक साबित हुईं.