इरफ़ान हिन्दुस्तानी फ़िल्म इंडस्ट्री में मिसफिट थे – अजय ब्रह्मात्मज

Irrfan Khan

अलगाव की स्थिति स्थाई नहीं होनी चाहिए – अशोक वाजपेयी The state of isolation should not be permanent – Ashok Vajpayee – सहज होना, सरल होना, आसान होना, कितना मुश्किल है इरफान होना – अजय ब्रह्मात्मज नई दिल्ली, 01 मई 2020 . प्राकृतिक आपदाएं आती हैं और अपने साथ बहुत कुछ बहा कर ले जाती

आज सत्य की गतिविधियों पर पहरे हैं, क्योंकि स्वार्थ के कान, जन्म से बहरे हैं

Mukut Bihari 'Saroj'

इमरजेंसी का पूर्वाभास और मुक्तिबोध बकौल अशोक वाजपेयी Ashok Vajpayee, the foreboding of Emergency and Muktibodh The poem ‘Andhere men’ was written by Muktibodh in 1962–63 देश में चल रहे हालात को देख कर, एक पुरानी घटना याद आ गयी। कई वर्ष पहले राजनन्दगाँव [छत्तीसगढ] में आयोजित ‘त्रिधारा’ संगोष्ठी में व्याख्यान देते हुए प्रसिद्ध कवि