Home » Tag Archives: असम

Tag Archives: असम

कांग्रेस का कद चुनावी राजनीति से कहीं बड़ा है, यही कांग्रेस की असली पहचान भी है

Congress Logo

The stature of the Congress is much bigger than electoral politics, this is also the true identity of the Congress. पश्चिम बंगाल, असम, केरल, तमिलनाडु और पुड्डुचेरी की जनता ने अगले पांच साल के लिए अपना जनमत दे दिया है। हम इन चुनाव परिणामों को पूरी विनम्रता और ज्म्मिदारी से स्वीकार करते हैं।’ राजनीति में तीखे शब्दों और निजी प्रहारों …

Read More »

सीपेजी ने जारी की चुनावों पर काम कर रहे पत्रकारों के लिए पत्रकार सुरक्षा गाईड

Press Freedom

CPJ released Journalist Safety Guide for Journalists working on elections CPJ की ओर से भारतीय राज्यों के चुनावों पर काम कर रहे पत्रकारों के लिए सुरक्षा गाईड पत्रकार सुरक्षा गाईड कई भाषाओं में उपलब्ध है न्यूयॉर्क, 08 मार्च, 2021- असम, केरल, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और पुदुच्चेरी में होने जा रहे राज्यसभा चुनावों और उनसे पहले होने वाली गतिविधियों पर काम …

Read More »

पीठ पर टोकरी लाद प्रियंका गांधी ने चाय बगान में तोड़ी पत्तियां; देखें- VIDEO

पीठ पर टोकरी लाद चाय बगान में तोड़ी पत्तियां

असम विधानसभा चुनाव 2021 | Assam Assembly Election 2021 चुनाव के लिए असम में जी जान लगा रहीं प्रियंका, बिश्वनाथ जिले में प्रियंका गांधी वाड्रा का हुआ स्वागत चाय बागान के कार्यकर्ताओं ने प्रियंका गांधी वाड्रा का किया स्वागत प्रियंका गांधी वाड्रा की बिश्वनाथ जिले में सद्गुरु चाय बागान में चाय बागान श्रमिकों के साथ की बातचीत.

Read More »

सर्दियों में प्रवासी पक्षियों का घर है भारत

Know Your Nature

India is home to migratory birds in winter | Birds of India | Bird World |Migratory birds in India भारत साइबेरियाई पक्षियों जैसे साइबेरियन क्रेन, ग्रेटर फ्लेमिंगो और डेमॉस्सेल क्रेन के लिए सर्दियों का घर (Winter house for siberian birds in india) है, जो दुनिया के अन्य क्षेत्रों के पक्षियों की कई प्रजातियां हैं … ये सुंदर प्रवासी पक्षी (Pravasi …

Read More »

बाढ़ में फिर डूब गया है असम… हम अपने कमरों में बैठकर दार्जिलिंग चाय पी रहे हैं …

नित्यानन्द गायेन Nityanand Gayen

बाढ़ में फिर डूब गया है असम… मेरे दोस्त अब भी कहते हैं – यहां से बहुत दूर है भारत ! नॉर्थ -ईस्ट ———   हम कितना जानते हैं और कितने जुड़े हुए हैं पूर्वोत्तर के लोगों से , उनके दर्द, तकलीफ़ जीवन-संघर्ष से और कितना जानते हैं उनकी ज़रूरतों के बारे ?   यह सवाल आज अचानक नहीं उठा …

Read More »