सीएए, एनपीआर और एनआरसी की क्रोनोलाजी का पर्दाफाश, भाजपा सरकार के झूठ हुए बेनकाब – त्रिवेदी

Amit Shah Narendtra Modi

नोटबंदी की ही तरह पूरे देश को नागरिकता के लिये कतार में खड़ा करना चाहती है मोदी सरकार रायपुर/24 फरवरी 2020। सीएए, एनपीआर और एनआरसी की क्रोनोलाजी का पर्दाफाश करते हुए प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने मोदी सरकार की नीति और मंशा पर सवाल खड़ा किये  हैं।

आजादी से पहले देश अनपढ़ जरूर था, लेकिन धर्मांध हरगिज़ नहीं

News and views on CAB

India is still a country of villages. Those who led the freedom struggle were understood by this very rule. बदलाव का सपना देखने वाले लोग न जाने क्यों भूल जाते हैं कि भारत अब भी गांवों का देश है। आजादी की लड़ाई का नेतृत्व करने वालों ने इस बहुत कायदे से समझा था। ब्रिटिश हुकूमत

भागवत के बयान का हवाला देकर दिग्विजय बोले मोदी, शाह राजधर्म नहीं निभा रहे हैं

digvijaya singh

नई दिल्ली, 16 फरवरी 2020. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ(आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत (Rashtriya Swayamsevak Sangh (RSS) chief Mohan Bhagwat) द्वारा गुजरात के अहमदबाद में दिए गए बयान को आधार बनाकर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह (Former Chief Minister of Madhya Pradesh and senior Congress leader Digvijay Singh) ने केंद्रीय गृहमंत्री

आंदोलनरत महिलाओं पर रात के अंधेरे में पुलिस से हमला कराना योगी की कायराना हरक़त – शाहनवाज़ आलम

उत्तर प्रदेश कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम (Shahnawaz Alam, Chairman, State Congress Minority Department)

अपराध की संगीन धाराओं में नामजद मुख्यमंत्री पुलिस का निजी गिरोह की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं आज़मगढ़ के डीएम एसपी की कॉल डिटेल हो सार्वजनिक, पता चल जाएगा कि उन्होंने संघ-भाजपा के किन नेताओं के कहने पर किया महिलाओं पर हमला लखनऊ, 05 फरवरी 2020. आज़मगढ़ के बिलरियागंज में सीएए-एनआरसी के ख़िलाफ़ आंदोलनरत महिलाओं

आरक्षण समाप्त करने और जनता को गुलाम बनाने वाला है सीएए, एनपीआर, एनआरसी

Guwahati News, Citizenship Act protests LIVE Updates, Anti-CAA protests, News and views on CAB,

CAA, NPR, NRC to end reservation and enslave public विश्व में उसी देश ने अपनी जनता के लिए विकास के बहु आयामी प्रतिमान स्थापित किये हैं जिसने भी सतत् रूप से रिसर्च एवं डेवलपमेंट की दिशा में काम किया है। आजादी के बाद सभी सरकारों ने इस दिशा में कार्य किया है, मोदी सरकार को

सीएए, एनपीआ,र एनआरसी : देश को दास युग में धकेलने की साजिश

NRC

CAA, NPA, NRC: Conspiracy to push the country into slave era पहले सीएबी आएगा। सभी शरणार्थियों को नागरिकता मिल जाएगी। उसके बाद एनआरसी आएगी। इसलिए शरणार्थियों को चिंता करने की जरूरत नहीं है, पर घुसपैठियों को जरूर डरना चाहिए। इनके क्रम को जरूर समझ लीजिए — सीबीए पहले आएगा, तब एनआरसी आएगी। एनआरसी सिर्फ बंगाल

अमित शाह की ‘क्रमकेलि’, इस क्रोनोलोजी के चमत्कारों से हिटलर भी हैरान हो जाता

Amit Shah at Kolkata

Hitler would also be surprised by the miracles of this chronology, Amit Shah’s ‘Kram Kelli’ The crooked line : Amit Shah’s love for symmetry (‘टेलिग्राफ’ में उड्डालक मुखर्जी के लेख – Article by Uddhalak Mukherjee in The Telegrap पर आधारित) आज के ‘टेलिग्राफ’ में उड्डालक मुखर्जी का एक अद्भुत लेख है — ‘समरूपता के प्रति

मोदी सरकार है बड़े पूँजीघरानों की एजेंट- अजीत यादव

Badaun bandh got mixed effect

बदायूँ बंद का रहा मिला जुला असर Badaun bandh got mixed effect ककराला कस्बा पूरी तरह बंद रहा, सहसवान में सफल बंद रहा, बदायूँ शहर व अन्य कस्बों में भी बंद का असर देखा गया नागरिकता संशोधन कानून, एनआरसी, एनपीआर और बेरोजगारी, मॅहगाई, श्रमिकों -किसानों पर मोदी सरकार के हमले के खिलाफ अखिल भारतीय हड़ताल के

असम में एनआरसी का अध्ययन करने वाली लेखिका का लेख, सीएए की यह आग हिंदुस्तान को जला डालेगी

NRC

आरएसएस के द्वितीय प्रमुख एमएस गोलवलकर (Second head of RSS, MS Golwalkar) अपनी पुस्तक ‘‘वी ऑर आवर नेशनहुड डिफाइंड‘‘ में लिखते हैं, ‘‘हिंदुस्तान के सभी गैर-हिंदुओं को हिंदू संस्कृति और भाषा अपनानी होगी, हिंदू धर्म का आदर करना होगा और हिंदू जाति अथवा संस्कृति, अर्थात हिन्दू राष्ट्र, के गौरव गान के अलावा कोई विचार अपने

जरूरी है भाजपा की हेट पॉलिटिक्स की काट ! संघ के असल वर्ग-शत्रु मुसलमान, नहीं दलित, आदिवासी और पिछड़े हैं

Amit Shah Narendtra Modi

केंद्र की सत्ता पर काबिज मोदी सरकार ने नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship amendment Act) (सीएए )और एनआरसी (NRC) की दिशा में जो कदम उठाया है, उससे इस सरकार के नोटबंदी जैसे तुगलकी व निरर्थक फैसले के बाद पूरे देश के अवाम का जीवन फिर एक बार बुरी तरह प्रभावित होने जा रहा है. लेकिन नोटबंदी