फ़िज़ाई आलूदगी

climate change

फ़िज़ाई आलूदगी [Environmental Pollution ] -: मोहम्मद ख़ुर्शीद अकरम सोज़ :- —————————————– दिल में कैसा दर्द है , सीने में है कैसी जलन साँस बोझिल हो रही है और तारी है घुटन हम ने सनअत में तरक़्क़ी ख़ूब तो  कर ली मगर बद से बदतर हो गया माहौल पे इसका असर जंगलों को इस क़दर