धर्मनिरपेक्षता, साम्प्रदायिकता से परे स्त्री की आज़ादी का सवाल

jagdishwar chaturvedi

Question of women’s freedom beyond secularism, communalism

औरत की आज़ादी और सुरक्षा देश की सबसे बड़ी समस्या है। हम यह मान बैठे हैं कि संविधान में औरत को हक़ दे दिए गए हैं और क़ानून बना दिया गया तो औरत अब आज़ादी से घूम- फिर सकती है।

औरत की मुक्ति की सबसे बड़ी चुनौती क्या है (What is the biggest challenge of women’s emancipation?) ?

औरत की मौजूदा समाज में धर्मनिरपेक्ष और साम्प्रदायिक दोनों ही क़िस्म के लोगों और विचारधाराओं से जंग है। जो यह मान बैठे हैं कि धर्मनिरपेक्ष होना स्त्री के पक्ष में खड़े होना है। यह एकदम ग़लत धारणा है। स्त्री की मुक्ति के लिए दोनों ओर से ख़तरा है।

स्त्री को आज़ादी दिलाने के लिए क्या नज़रिया हो ? | What is the approach to liberate women?

स्त्री को आज़ादी दिलाने के लिए स्त्री के नज़रिए से देखने की ज़रुरत है। धर्मनिरपेक्षता और साम्प्रदायिकता दोनों ही दृष्टियाँ औरत को पुरुष के मातहत रखती हैं। औरत की मुक्ति की यह सबसे बड़ी चुनौती है कि उसे हर क़िस्म के वर्चस्व से मुक्त रखा जाय।

औरत की आज़ादी का पैमाना क्या हो? | What is the measure of women’s freedom?

औरत की आज़ादी का पैमाना पुरुष या समाज नहीं, औरत होगी। समाज की जितनी भी परिभाषाएँ हैं वे पुंसवादी हैं और पुंसवादी पैमानों से औरत की आज़ादी का मूल्याँकन संभव नहीं है। हमारे समाज में हर स्तर पर समानता का मानक पुंसकेन्द्रित है और यह पैमाना बहुत धीमी गति से बदल रहा है।

कांग्रेस, भाजपा, बसपा, अन्ना द्रमुक या टीएमसी आदि दलों के सर्वोच्च पदों पर औरत के बैठे होने से ये दल पुंसवाद से मुक्त नहीं हो गए। पद पर बिठाने मात्र से औरत को समानता नहीं मिलती, पद तो संकेत मात्र है, समस्या पद या प्रतिशत की भी नहीं है।

समस्या यह है कि हम स्त्री दृष्टिकोण से दुनिया देखते हैं या नहीं ?

औरतों में बड़ा हिस्सा है जो दुनिया को पुंसवादी नज़रिए से देखता है और दैनन्दिन जीवन में पुंसवादी उत्पीड़न का स्त्री के ख़िलाफ़ मोर्चा खोले हुए है।

औरत पर विचार करते समय औरतों में व्याप्त वैविध्य को भी ध्यान में रखना होगा। परंपरागत नज़रिए से लेकर स्त्रीवादी नज़रिए तक की औरतें हमारे समाज में हैं। हमें सभी क़िस्म के स्त्री दृष्टिकोण के प्रति सहिष्णु भाव पैदा करना होगा।

औरतें सुख और आज़ादी से रहें इसके लिए ज़रुरी है कि हम अनपढ़ से लेकर शिक्षित तक सभी रंगत और सभी जातियों की औरतों के प्रति समानता और सम्मान के नज़रिए से पेश आएँ।

औरतों में दो क़िस्म की चुनौतियाँ हैं, पहली चुनौती स्त्री-पुरुष भेद की है और दूसरी चुनौती स्त्रियों में व्याप्त सामाजिक-क्षेत्रीय भेद की है। औरतें पहले औरतों से सामाजिक भेद त्यागकर प्रेम करना सीखें। मसलन ब्राह्मण औरत में निचली जाति की औरत के प्रति भेददृष्टि होती है। यह भेददृष्टि उसमें समानता और सम्मान का सामान्य रवैय्या विकसित नहीं होने देती। यहाँ तक धर्मनिरपेक्षता या हिन्दुत्व भी उसे इसमें मुक्ति मार्ग नहीं दिखाते।

स्त्री जितनी घर के बाहर निकलेगी , समाजीकरण की प्रक्रिया में सक्रिय होगी उसकी भेददृष्टि कम होती चली जाएगी। इसके लिए उसे स्त्री मुक्ति की स्त्रीवादी विचारधाराओं और परंपराओं से सीखना होगा।

प्रोफेसर जगदीश्वर चतुर्वेदी

नदियों में लहू घुल चुका है/ ज़हर हवा में नहीं/ अबकी ज़हर लहू में घुल चुका है

Literature, art, music, poetry, story, drama, satire ... and other genres

नित्यानंद गायेन

पुलिस ने दंगाइयों को नहीं

एक बूढ़ी औरत को मार दिया

वो केवल बूढ़ी औरत नहीं थी

पुलिस वालों ने उसे एक मुसलमान की माँ पहचान कर मारा था

गलती उन सिपाहियों की नहीं थी

उन्होंने सत्ता के आदेश का पालन किया

उन्हें आदेश था

कपड़े देखकर पहचान करो दुश्मनों की

किंतु बूढ़ी माँ के कपड़े से कैसे पहचान लिया

सरकारी सिपाहियों ने उसका मज़हब ?

ज़हर हवा में नहीं

अबकी ज़हर लहू में घुल चुका है

सत्ता का धंधा का सेंसेक्स शिखर पर है

नफ़रत का मुनाफ़ा सत्ता को मजबूती देता है

नफ़रत की खेती करने वालें नहीं समझते

आत्महत्या करने वाले किसान का दर्द

दंगों के सौदागर इंसान की पीड़ा नहीं समझते

पर सवाल हम पर है

हम तो समझदार मान रहे थे खुद को

हम क्यों फंस गए इनकी चाल में ?

एक कवि ने कहा मुझसे –

एक वक्त था जब मैंने तुम सबको

अपना मान लिया था

इस मुल्क को धरती का सबसे सुंदर बगीचा मान लिया था

पर अब वक्त आ गया है

कह दूं कि

दो अजनबी कभी साथ नहीं चल सकते

यहां की धूप में अब नमी नहीं बची है

हवा में मानव मांस की दुर्गंध फैल चुकी है ।

नदियों में लहू घुल चुका है

नित्यानन्द गायेन Nityanand Gayen
नित्यानन्द गायेन Nityanand Gayen

“इंडियाज़ डॉटर-सेक्स, वोईलेंस और वुमेन : बाज़ार का सबसे ज्यादा बिकाऊ माल” 

india's daughter documentary review

“India’s Daughter-Sex, Violence and Women: Market’s Most Selling Merchandise”

India’s daughter documentary review in Hindi

अरगला पत्रिका के संपादक और जनवादी कवि अनिल पुष्कर कवीन्द्र का यह लेख 08 मार्च 2015 को हस्तक्षेप पर प्रकाशित हुआ था, पाठकों के लिए पुनर्प्रकाशन

 दरअसल ये बाज़ार उन मुल्कों में अपनी घुसपैठ कर चुके हैं जहां तमाम तरह की पारम्परिक बंदिशें, रिवाज, समाज के कायदे कानून सदियों से लागू हैं। लोकतांत्रिक समाज (Democratic society) में जबरन लोगों पर थोपे गये हैं। ऐसे मुल्कों में कानून और राजनीतिक व्यवस्था सबसे अधिक लचर और असमानता पर आधारित है। तीसरे दर्जे के देशों की गणना में शुमार मुल्क इस कारोबार को अपने मुताबिक़ कई तरह के मुनाफे की चरम ऊंचाई तक ले जा रहे हैं। जबकि विकसित मुल्क इन उत्पादों को आर्थिक आधार मजबूत करने के लिए, बिजनेस में मुनाफे के लिए इस्तेमाल कर रहा है।

हर देश का मीडिया इन उत्पादों को सबसे ज्यादा प्रभावी बनाने की खातिर नये-नये विचार और मॉडल बना रहा है। एक चस्क, एक चाहत और एक आकर्षण लगातार इन उत्पादों के बाज़ार में आने के साथ ही लुभावनी प्रस्तुति के जरिये संभव हुआ है।

मीडिया, जिसे लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ दुनिया भर में माना जाता है (Media, which is considered the fourth pillar of democracy worldwide,), इस व्यापार में अपना दायित्व निभाने का दावा करते हुए भी अपने अथाह मुनाफे को कतई नहीं भूलता। ज्यादातर मीडिया हाउस इन विकासशील मुल्कों में अपनी नई पहचान लिए बाज़ार में उतरे हैं।

यह मुनाफ़ा कमाने की हवस ज्यादातर विकासशील मुल्कों में अपनी रीढ़ टिकाये हुए है।

दुनिया के सबसे सस्ते माल और दुनिया की महंगी वस्तुओं के मुकाबले अधिक उत्तेजित करने वाले, इन्द्रिय-सुख देने वाले यह सामान हर आदमी तक पहुँचने की कूबत रखते हैं।

इन सामानों को बनाने वाली मंडियों, कारखानों में जो काम करने वाले दैनिक मजदूर हैं। वो इतने अधिक लाचार मजबूर और निर्धन हैं कि जिन्हें दो वक्त की रोटी भी ठीक से मुहैया नहीं है। और जिन अमीर लोगों ने इस कारोबार में जगह बनाई। उन्हें हर समय सत्ता और सरकार ने सुरक्षित किया। उनकी ताकत को बढ़ाने में जरूरी सहूलियतें दीं। जबकि इस कारोबार के मजदूरों के लिए खतरे उतने ही बड़े और कानूनी की सख्त दंड प्रक्रिया शामिल हैं। ये एक ही लोकतंत्र में दो तबकों के लिए दोहरी नीति ही तो है।

सेक्स औरत और अपराध का व्यापार करने वाले सरकार की नेआमत से अपनी पहचान बनाने में लगे हैं। वह पहले से कहीं अधिक ताकतवर और सुविधाभोगी बनते जा रहे हैं। अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में उनकी इज्जत बढ़ी है। वे किसी भी सीमा द्रोह के बिना यह कारोबार करने के लिए पूरी तरह आज़ाद हैं।

This is a period of liberalization, a period of globalization

यह दौर जिसमें तीसरे दर्जे के मुल्क जी रहे हैं, यह उदारीकरण का दौर है, भूमंडलीकरण का दौर है। दुनिया भर की पूंजी के निवेश, आवागमन का दौर है। इस दौर में यदि सबसे ज्यादा तेजी से कुछ बढ़ा है तो वह है बाज़ार।

दुनिया के किसी भी मुल्क में बाज़ार के भीतर वो कौन सी वस्तुएं है जो बाज़ार की नजर में किफायती, उत्तेजक और सबसे ज्यादा मुनाफ़ा देने वाली हो सकती है। इसका सर्वेक्षण करते हुए बाज़ार ने तीन चीजें खोजीं। अश्लीलता (पोर्न), औरत (वीमेन) और (क्राइम) अपराध ये दुनिया के बाज़ार में सबसे ज्यादा बिकने वाला माल साबित हुआ। इनकी जितनी तेज़ बिक्री किसी भी मुल्क में, किसी भी तबके में हो सकती है अन्य किसी माल से यह मुनाफा कतई मुमकिन नहीं है। इसके लिए कोई पाबंदी और सरकारी नियन्त्रण कतई नहीं है। क्योंकि सरकारें भी अब इस दौर में पूंजीवादी मुल्कों की प्रायोजित बाजारवादी स्पर्धा में खुद को साबित करने में लगी हैं।

यह बाज़ार किस तरह संचालित होता है? क्या इसके लिए नीतियाँ और कानून व्यवस्था पूरी तरह जिम्मेदार है? | How does this market operate? Are policies and law and order fully responsible for this?

इसमें जो आय माल को तैयार करने में बाज़ार के मुताबिक़ लगाई जाती है वो बहुत अधिक जगह और सुविधाओं की मांग नहीं करती है। – इस बिरादरी के बिजनेस हाउस, मुल्क के भीतर मौजूद व्यवस्था और उसके संचालकों का भरपूर सहयोग लेकर इस तैयार माल को किसी भी कीमत पर खरीद-फरोख्त करने के लिए आज़ाद हैं।

उदारीकरण ने इन तीनों उत्पादों को एक बड़े बाज़ार में उतारने का माध्यम खड़ा किया। जिस गति से पोर्न, क्राइम और वीमेन को बेचने खरीदने का सिलसिला शुरू हुआ। उतनी तेजी से कोई बिजनेस अब तक नहीं फैला। हर मुल्क में इन सामानों की मांग पैदा की गई। और ग्राहकों तक पहुँचने का बाज़ार बड़ी मजबूती से गढ़ा गया। यह माल तैयार होता है हर देश में सबसे मजबूत मानी जाने वाली संसदीय और कानूनी  संस्था के सहयोग से फलता फूलता है। और व्यवस्था इस बाज़ार के मुनाफे का मजबूत आधार-स्तम्भ हैं।

अब सेक्स, अपराध और औरत की देह को सामान बनाने वाली कम्पनियां और बाज़ार इन सामानों पर लगे सामाजिक राजनीतिक प्रतिबन्ध हटाने के लिए हर मुमकिन कोशिश कर रही है। इन सामानों को बेचने खरीदने के लिए आजादी चाहती हैं। इस तरह की मांग बाजारवादी ताकतें उठाने लगी है।

हमें समझना होगा कि असल में सेक्स अपराध और औरतों का कारोबार करने वाली कंपनियों की गिरफ्त से किस तरह बचा जाय? और इन कारोबारी नेटवर्क से मुक्त होने के लिए किस तरह पहल की जाय?

औरतों की देह की आजादी की बात करने वाले समुदाय बड़ी चतुराई से औरतों को ही उपभोग के लिए उनकी सहमति से या कमजोर तबके की औरतों को जिस्म-फरोशी के कारोबार में ढकेलते हैं। बाज़ार की ताकत से प्रभावित करते हैं। और सेक्स का बाज़ार तैयार करते हैं। नये सिरे से औरतों के प्रति बदलता नजरिया, अपराध की भावना में बढत यहीं से होती है।

एक नये ढाँचे में आदमी किस तरह अपने अस्तित्व को बनाए बचाए रखे, यह समझना बेहद जरूरी है। नये तरह की बदली हुई सामजिक राजनीतिक संरचना एक परेशानी का सबब बनती जा रही है। इसे खत्म करने के लिए परम्परा और आधुनिकता के बीच की गैरबराबरी वाली खाई को पाटना होगा। इसके सिवाय कोई और रास्ता नहीं है। तभी सेक्स अपराध और औरतों की खरीदफरोख्त करने वाले कारोबारीयों और घिनौने बाज़ारतन्त्र से मुक्त हुआ जा सकता है।

इंडियाज़ डाटर जैसी डाक्यूमेंट्री ने इस पूरे मसले पर एक उत्पाद बनाकर समाज के सामने इसे जिस तरह पेश करने का फैसला लिया। यह देखना होगा कि इसकी क्या प्रतिक्रिया होगी। वे कौन सी वजहें हैं, जिन्हें ध्यान में रखते हुए फिलहाल इसे बेचने की कवायद नहीं की गई है। यदि इस तरह की मांग बढ़ती है तो भविष्य में सेक्स अपराध और औरत को केंद्र में रखकर एक से एक बेहतरीन उत्पाद बाज़ार में बिकने के लिए तैयार खड़े होंगे।

दरअसल यह फिल्म उस बाज़ार का नमूना है जो अपने उत्पाद को उतारने के साथ ही इस तरह की पड़ताल करता है कि कोई माल कितनी तेजी से मानवीय भावना को तुष्ट करने में सफल साबित होता है। यह बाज़ार का माल बेचने के लिए एक साइकोलॉजिकल तरीका (A Psychological Way to Sell Market Goods) है। मगर दूसरी तरफ सरकार का प्रतिबंध केवल इस कारण तो कतई नहीं है कि जो वजह यहाँ बताई जा रही है उसे अम्ल में लाया जा रहा है बल्कि वहां  एक और दबाव लगातार बना हुआ है।

उदारीकरण के बने बनाये ढाँचे में रहकर बदलते हुए बाज़ार का शक्ति-प्रदर्शन के साथ सरकार का टकराव। यह राजनीतिक अस्तित्व का सवाल है। यहाँ भी सरोकार यह नहीं है कि समाज पर इसका क्या असर होगा? बल्कि लगातार एक डर बना हुआ है कि राजनीतिक अस्तित्व के खतरे बाज़ार के मुकाबले माल के मुनाफे से कहीं अधिक बड़े और घातक साबित हो सकते हैं।

वैसे इस फिल्म की खासियत यही है कि वह बिना किसी का पक्ष लिए एक कहानी प्रस्तुत करती है जिसमें हर चरित्र की भूमिकाएं तय हैं।

ऐसा नहीं है कि पहले इस फिल्म की स्क्रिप्ट लिखी गयी फिर उसे अभिनय के लिए चरित्र तलाशे गये बल्कि हुआ यह कि 16 दिसम्बर की घटना पर सर्वेक्षण करते हुए फिल्म की टीम जैसे-जैसे आगे बढ़ी उसे पसंदीदा और पूरी तरह एक मजेदार और जायकेदार उत्पाद बनने की जिज्ञासा नजर आई। इस पूरे फिल्म में आन्दोलन भी है। आक्रोश भी है और एक गरीब परिवार की दयनीय दशा दर्शाते हुए सामान्य माँ-बाप की बातें एक ख़ास जगह जाकर खत्म की गई हैं।

This documentary prepared in a low budget is worth watching.

इस फिल्म में कई ऐसे उदाहरण अदाकारों ने दिए हैं। बिना अभिनय की दरकार के बावजूद फिल्म अपने मूल मकसद से कहीं भी भटकती नहीं है। निर्माता को यह मालूम है इसे कहाँ कैसे शुरू करना है और इसका अंत किस खूबसूरती से किया जाय। कम बजट में तैयार यह डाक्यूमेंट्री देखने लायक है। जिसे हर आदमी को देखना जरूरी है ताकि हर पहलू और असीम संभावनाओं को तलाशा जा सके। इसके प्रतिगामी परिणामों पर ख़ास नजर अभी सरकार के प्रतिबन्ध के बावजूद बनी हुई है।

समाज में यह फिल्म क्या सन्देश देगी इसे देखना एक मजेदार अनुभव होगा। जब एक घटना से प्रभावित माँ-बाप अपनी लाचारी और तंत्र की मार खाकर केवल एक उम्मीद लिए हाजिर हैं। वहीं अपराधी सजा ए मौत के बाद भी निश्चिन्त और तटस्थ दिखाई देता है। सरकार के भीतर अजब सी हलचल मची हुई है। देखने वाले लोगों के नजरिये का अभी बेसब्री से इन्तजार चल रहा है। अभी तो यकीनन प्रतिक्रियाओं की फुसफुसाहट शुरू हुई है। देखते हैं असल में इसके दूरगामी परिणाम पूरे  मामले को किधर ले जाते हैं। क्या बाज़ारतंत्र का फलसफा समाज पर हावी होगा या फिर राजनीतिक अस्तित्व की लड़ाई में कोई नया मोड़ आएगा।

डॉ. अनिल पुष्कर

[author image=”http://www.hastakshep.com/oldwp-content/uploads/pep-vn/a0f6e16e/IMG0125Aqqqq-7c-7c-62-62-62-62.jpg” ]अनिल पुष्कर कवीन्द्र, प्रधान संपादक अरगला (इक्कीसवीं सदी की जनसंवेदना एवं हिन्दी साहित्य की त्रैमासिक पत्रिका)[/author]

इंडियाज़ डॉटर – सेक्स, वॉइलेंस और वुमेन : बाज़ार का सबसे ज्यादा बिकाऊ माल