Home » Tag Archives: कश्मीर

Tag Archives: कश्मीर

कश्मीर के हालत के लिए ज़िम्मेदार कौन?

killing of kashmiri pandits, bjp's failed kashmir policy,

Know about कश्‍मीर के हालात in Hindi on HASTAKSHEP.COM जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद भी कश्‍मीर के हालात ठीक नहीं हैं। कश्मीर फाईल्स फिल्म का प्रोमोशन करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कश्मीरी पंडितों की टारगेटेड किलिंग पर भी अब कश्मीर का ‘क’ भी बोलने को तैयार नहीं हैं। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया …

Read More »

द कश्मीर फाइल्स : कश्मीर के सवाल से अलग नहीं हो सकता कश्मीरी पंडितों का सवाल

debate

कश्मीरी पंडितों पर हुए अत्याचार (Atrocities on Kashmiri Pandits) को देश में मुसलमानों के विरुद्ध जहर (Poison against Muslims in the country) घोलने के लिए इस्तेमाल न करें मैंने ‘कश्मीर फाइल्स’ फिल्म नहीं देखी है, लेकिन सोशल मीडिया, टीवी चैनलों और अन्य जगहों पर इसे लेकर काफी बहस चल रही है। कई लोगों को इस पर इतना ‘गर्व’ है कि …

Read More »

Apples in kashmir : क्यों लड़खड़ा रहा कश्मीर का सेब व्यापार ? क्या सस्ते ईरानी सेब बने वजह?

kashmir apple industry

Kashmir apple industry is faltering because of cheap Iranian apples श्रीनगर : कश्मीर घाटी में 24 अरब रुपये से अधिक मूल्य के सेब अपना बाजार खोने के कगार पर हैं। सेब व्यापारियों का दावा है कि सस्ते ईरानी सेबों ने आ कर भारतीय बाजारों में धूम मचा दी है, जिससे उच्च गुणवत्ता वाले कश्मीरी सेब की मांग (Demand for high …

Read More »

सूर्यास्त के बाद खिलने वाला फूल : ब्रह्मकमल हिमालयी फूलों का सम्राट

Know Your Nature

Flower that blooms after sunset: Brahma Kamal, the emperor of Himalayan flowers कहते हैं कि किसी भी घर में ब्रह्म कमल का खिलना व दर्शन करना दोनों शुभ माने जाते हैं। यह अत्यंत सुंदर चमकते सितारे जैसा आकार लिए मादक सुगंध वाला पुष्प है। ब्रह्म कमल (Saussurea obvallata in Hindi) को हिमालयी फूलों का सम्राट भी कहा गया है। ब्रह्म …

Read More »

पंडित नेहरू और शेख अब्दुल्ला के कारण ही कश्मीर बन सका भारत का हिस्सा

opinion, debate

Kashmir became a part of India only because of Pandit Nehru and Sheikh Abdullah भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ समेत कई व्यक्ति व संगठन जवाहरलाल नेहरू को कश्मीर समस्या के लिए जिम्मेदार मानते हैं। परंतु इसके विपरीत पूरे विश्वास से यह दावा किया जा सकता है कि यदि जवाहरलाल नेहरू और शेख अब्दुल्ला नहीं होते तो जम्मू-कश्मीर भारत …

Read More »

तिरंगे पर कब्जे की लड़ाई

स्वाधीनता दिवस और गणतंत्र दिवस पर शासक-वर्ग का तिरंगा-प्रेम देखते बनता है। तिरंगे के साथ वह जैसे खुद लहराने लगता है। तिरंगा अब भारत के शासक-वर्ग की ताकत का प्रतीक है। दोनों एक-दूसरे में घुल-मिल गए हैं।   (2011 का यह लेख हिंदी मासिक ‘युवा संवाद’ में छपा था। तब से लेकर अब तक सत्ता के गलियारों में तिरंगे का कारोबार …

Read More »

370 की समाप्ति के दो साल : धरती के स्वर्ग को अच्छे दिन का इंतजार

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अनेक फैसले अचानक और बगैर पर्याप्त सलाह-मशविरे या लोगों को विश्वास में लिए बगैर लिए हैं। धारा 370 को हटाना भी उनमें से एक है। इसके पीछे उनका और उत्साह एवं राजनैतिक सोच का योगदान अधिक है जो चुनावी समीकरणों ओर ध्रुवीकरण की दिशा में निरंतर सोचता रहता है।  धारा 370 के हटने के दो वर्ष …

Read More »

कश्मीरियों को बार बार देशभक्ति का पाठ मत पढ़ाइये, जब मोदी से बोले युसूफ तारिगामी

कश्मीरियों ने भारत चुना था क्योंकि उनकी परम्परा साथ रहने की थी, धर्मनिरपेक्षता की थी। तारिगामी ने हुक्मरानों को सलाह दी कि कभीकभार इतिहास की किताबें भी पढ़ लिया करें।  कश्मीर, उसकी विरासत और संविधान को अपमानित करने वालो शर्म करो श्वेत पत्र जारी कर पिछले दो सालों का हिसाब देश को दो शैली स्मृति व्याख्यान में बोले युसूफ तारिगामी …

Read More »

कश्मीर पर पीएम मोदी का यू-टर्न ! ऑल पार्टी मीट | आर्टिकल 370| जम्मू न्यूज

Kashmir par Modi

 पीएम मोदी की नई कश्मीर नीति और कश्मीर के राजनीतिक नेताओं के साथ सर्वदलीय बैठक पर लाइव चर्चा। चर्चा में भाग ले रहे हैं दैनिक भास्कर के पूर्व समूह संपादक श्रवण गर्ग, वरिष्ठ पत्रकार बिशन कुमार व राजनीतिक विश्लेषक प्रोफेसर अरुण चतुर्वेदी।   कश्मीर पर पीएम मोदी का यू-टर्न ! ऑल पार्टी मीट | आर्टिकल 370|जम्मू न्यूज Modi takes U turn …

Read More »

पंडित नेहरू और शेख अब्दुल्ला के कारण ही कश्मीर बन सका भारत का हिस्सा

Pt. Jawahar Lal Nehru

Kashmir became a part of India only because of Pandit Nehru and Sheikh Abdullah भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ समेत कई व्यक्ति व संगठन जवाहरलाल नेहरू को कश्मीर समस्या के लिए जिम्मेदार मानते हैं। परंतु इसके विपरीत पूरे विश्वास से यह दावा किया जा सकता है कि यदि जवाहरलाल नेहरू और शेख अब्दुल्ला नहीं होते तो जम्मू-कश्मीर भारत …

Read More »

नेहरू के कारण ही कश्मीर भारत का हिस्सा है – पीयूष बबेले

Pt. Jawahar Lal Nehru

Kashmir is a part of India because of Nehru – Piyush Babelle संघ-भाजपा को बताना चाहिए कि सावरकर को किस बहादुरी के लिए अंग्रेज़ पेंशन देते थे- प्रो रमेश दीक्षित राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के नेतृत्व में नेहरूवादी मूल्यों को स्थापित करेगी कांग्रेस – शाहनवाज़ आलम पण्डित जवाहर लाल नेहरू की पुण्यतिथि (Death anniversary of Pandit Jawaharlal Nehru) पर …

Read More »

भारतीय कृषि व्यवस्था की रीढ़ हैं महिलाएं, जनांदोलन के कंधे पर चढ़ कर आयी सरकार, जनांदोलनों के विरूद्ध दुश्मनी पर उतरी

Tractor-trolley trip in Malwa-Nimar in support of farmer movement

Women are the backbone of the Indian agricultural system: Vijay Shankar Singh सौ दिन से चल रहे किसान आन्दोलन की उपलब्धि क्या है | What is the achievement of the farmer movement that has been going on for a hundred days? यदि एक शब्द में इस सौ दिन से चल रहे किसान आन्दोलन की उपलब्धि बतायी जाय तो वह है …

Read More »

ऐसा नहीं है कि असहिष्णुता सिर्फ सवर्णों की होती है, बाबासाहेब जैसे अद्भुत विद्वान राजनेता के अनुयायी भी कम असहिष्णु नहीं

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

वरिष्ठ पत्रकार पलाश विश्वास का यह आलेख हस्तक्षेप पर मूलतः April 19, 2016 को प्रकाशित हुआ था। पाठकों के लिए पुनर्प्रकाशन हम दीपा कर्मकार की उपलब्धियों (achievements of Deepa Karmakar) पर लिख नहीं रहे हैं। इस बारे में अगर आपकी दिलचस्पी है तो मीडिया के सौजन्य से आपको काफी कुछ जानकारी अब तक मिली होगी, जिसे हम दोहराना नहीं चाहते। …

Read More »