काजल की कोठरी : छतीसगढ़ में कोयला खदानों की लिस्ट बदली, लेकिन स्थिति जस की तस

Coal

Kajal cell: List of coal mines changed in Chhattisgarh, but the situation remains the same नई दिल्ली, 18 सितंबर 2020.  कोयले का खनन (Coal mining) काजल की कोठरी में जाने से कम नहीं। कुछ ऐसी ही स्थिति छतीसगढ़ में हो रही है। दरअसल जैव विविधता और पर्यावरण संरक्षण के नाम पर सरकार ने वहां खनन

साल 2022 तक 70% कोयला आधारित पावर स्टेशन पर्यावरण मानकों को नहीं कर पाएंगे पूरा – सीएसई स्टडी

Coal

70% of coal-fired power stations may not meet environmental norms by 2022 – five years after their extended deadline, finds new CSE study India is opening up coal mining to privatisation to revive its COVID-19-struck economy. Coal-fired power plants are some of the most polluting industries in the country. The sector MUST meet the environmental