Home » Tag Archives: कोयला खनन

Tag Archives: कोयला खनन

जानिए, ‘वैश्विक मीथेन संकल्प’ क्यों महत्वपूर्ण है ?

Climate change Environment Nature

Know, Why is the ‘Global Methane Resolution’ important? 2021 United Nations Climate Change Conference/Location नई दिल्ली, 03 नवंबर 2021: स्कॉटलैंड के ग्लासगो में संयुक्त राष्ट्र COP26 जलवायु सम्मेलन (UN COP26 Climate Conference in Glasgow, Scotland) के पहले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जलवायु परिवर्तन से निपटने के पाँच सूत्रीय एजेंडा प्रस्तुत किए जाने के दूसरे दिन मीथेन उत्सर्जन में कटौती …

Read More »

कोयला संकट सार्वजनिक क्षेत्र को तबाह करने की नीतियों का परिणाम – वर्कर्स फ्रंट

दिनकर कपूर Dinkar Kapoor अध्यक्ष, वर्कर्स फ्रंट

Coal crisis a result of policies to destroy the public sector – Workers Front लखनऊ, 8 अक्टूबर 2021, विद्युत उत्पादन गृहों में हो रही कोयले की कमी व संकट (Coal shortage and crisis in power generation houses) सरकार के ऊर्जा के प्रमुख स्रोत कोयला को निजी हाथों में देने और सार्वजनिक क्षेत्र को तबाह करने की नीति का परिणाम है। …

Read More »

जलवायु परिवर्तन पर ‘लीडर्स समिट ऑन क्लाइमेट’ बाइडन प्रशासन के लिये लिटमस टेस्‍ट : विशेषज्ञ

Climate change Environment Nature

 ‘Leaders Summit on climate’ litmus test for Biden administration: expert नई दिल्ली, 16 अप्रैल 2021. जलवायु परिवर्तन के खिलाफ कार्रवाई के प्रति अमेरिका एक बार फिर संजीदा है। यही वजह है कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने उन 40 देशों के नेताओं को आमंत्रित किया है जो कार्बन उत्सर्जन में सबसे ज्यादा योगदान करते हैं। इसके अलावा आमंत्रितों में कुछ …

Read More »

काजल की कोठरी : छतीसगढ़ में कोयला खदानों की लिस्ट बदली, लेकिन स्थिति जस की तस

Coal

Kajal cell: List of coal mines changed in Chhattisgarh, but the situation remains the same नई दिल्ली, 18 सितंबर 2020.  कोयले का खनन (Coal mining) काजल की कोठरी में जाने से कम नहीं। कुछ ऐसी ही स्थिति छतीसगढ़ में हो रही है। दरअसल जैव विविधता और पर्यावरण संरक्षण के नाम पर सरकार ने वहां खनन के लिए प्रस्तावित कोयला खण्डों …

Read More »

साल 2022 तक 70% कोयला आधारित पावर स्टेशन पर्यावरण मानकों को नहीं कर पाएंगे पूरा – सीएसई स्टडी

Coal

70% of coal-fired power stations may not meet environmental norms by 2022 – five years after their extended deadline, finds new CSE study India is opening up coal mining to privatisation to revive its COVID-19-struck economy. Coal-fired power plants are some of the most polluting industries in the country. The sector MUST meet the environmental norms to ensure “our right …

Read More »