भारत में कोयला बिजली परियोजनाओं को मिलने वाला बैंक लोन घट रहा है

Coal

कोयले के लिए फाइनेंस (Finance for coal) मिलने में गिरावट का मतलब है कि वित्तीय संस्थानों को कोयले में निवेश से जुड़े जोखिमों का एहसास होने लगा है।

कोयला बिजली संयंत्रों के कानून तोड़ने से हर साल 88,000 बच्चे अस्थमा का शिकार हो जाते हैं

Climate change Environment Nature

थर्मल पावर प्लांट से निकलने वाले ज़हरीले धुएं हमारे बच्चों के नव विकसित फेफड़ों के लिए घातक साबित होते हैं। इसकी वजह से बच्चों में अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, और लगातार ख़ांसी आने जैसे क्रोनिक रोगों को जन्म देते हैं।

काजल की कोठरी : छतीसगढ़ में कोयला खदानों की लिस्ट बदली, लेकिन स्थिति जस की तस

Coal

Kajal cell: List of coal mines changed in Chhattisgarh, but the situation remains the same नई दिल्ली, 18 सितंबर 2020.  कोयले का खनन (Coal mining) काजल की कोठरी में जाने से कम नहीं। कुछ ऐसी ही स्थिति छतीसगढ़ में हो रही है। दरअसल जैव विविधता और पर्यावरण संरक्षण के नाम पर सरकार ने वहां खनन

मोदी सरकार की कोयला नीति को करारा झटका, यूएन महासिव ने कहा भारत को अब कोयला में नये निवेश करने की ज़रूरत नहीं

एंटोनियो गुटेरेस संयुक्त राष्ट्र के महासचिव, António Guterres Secretary-General of the United Nations

UN Chief Urges India To Kill Fossil Fuel Subsidies, End Coal Pledges After 2020 नई दिल्ली, 28 अगस्त 2020. भारत में अगस्त महीने का यह आख़िरी हफ़्ता जलवायु परिवर्तन के ख़िलाफ़ छिड़ी जंग (Rust against climate change) की दशा और दिशा निर्धारित करने की नज़र से बेहद महत्वपूर्ण साबित हो रहा है। जहाँ आज, 28

कोयला खनन का निजीकरण राष्ट्र विरोधी, हर देशभक्त करे मजदूरों के आंदोलन का समर्थन

दिनकर कपूर Dinkar Kapoor अध्यक्ष, वर्कर्स फ्रंट

Privatization of coal mining is anti-national, every patriot should support the workers’ movement कोयला के निजीकरण के खिलाफ आज से शुरू मजदूरों की हड़ताल पर दिनकर कपूर का आलेख Dinkar Kapoor’s article on workers’ strike against coal privatization starting today आज से पूरे देश में कोयला क्षेत्र के निजीकरण (Privatization of coal sector) के खिलाफ