Home » Tag Archives: खेती किसानी

Tag Archives: खेती किसानी

भारत के लिए भविष्य की प्रौद्योगिकी पर विशेषज्ञों का मंथन

tifac

Experts brainstorm on future technology for India नई दिल्ली, 05 जून : हम 2047 में स्वतंत्र भारत की 100वीं वर्षगांठ मनाएंगे। स्वतंत्रता के शताब्दी वर्ष में देश को विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में एक महाशक्ति के रूप में स्थापित करने के लिए समर्पण के साथ-साथ एक विस्तृत रूपरेखा की आवश्यकता है। आगामी 25 वर्षों के दौरान विज्ञान और प्रौद्योगिकी …

Read More »

जानिए कृषि में रोजगार के अवसर क्या हैं

farming

क्या आप भी जानना चाहते हैं कि एग्रीकल्चर से कौन कौन सी नौकरी मिल सकती है? बीएससी एग्रीकल्चर में करियर कैसे बनाएं? बीएससी एग्रीकल्चर (Bsc Agriculture in Hindi) क्या है कैसे करें? आइए बीएससी कृषि पाठ्यक्रम विवरण हिंदी में (Bsc Agriculture Course Details in Hindi) जानें और जानें कि कृषि में रोजगार के अवसर क्या हैं। कृषि में पेशेवर कैरियर …

Read More »

प्रेरक कहानी : मल्टीनेशनल कंपनी की नौकरी छोड़, कर रहे प्राकृतिक खेती

natural farming

Inspirational story: leaving the job of a multinational company, doing natural farming दिल्ली-एनसीआर, गुरुग्राम की प्रदूषित हवा (Polluted air of Delhi-NCR, Gurugram) से तंग आकर कुछ युवा अपने गांव वापस लौटकर न केवल प्राकृतिक खेती को अपना आजीविका का साधन बनाया बल्कि गांव के किसानों को भी इसी ओर प्रेरित कर रहे हैं. इनमें भोपाल के इंजीनियर शशिभूषण (Bhopal engineer …

Read More »

रासायनिक, जैविक या प्राकृतिक खेती : क्या करे किसान

farming

Chemical, organic or natural farming: what a farmer should do? मध्य प्रदेश सरकार की असंतुलित नीति ‘प्राकृतिक खेती’ की नई घोषणा बीते 20 वर्ष से रसायन मुक्त या जैविक खेती (chemical free or organic farming) कर रहे युवा प्रगतिशील किसान आनन्द सिंह ठाकुर इन दिनों मप्र की शिवराज सिंह चौहान सरकार की खेती-बाड़ी की नित- नई विरोधाभासी नीतियों से हैरान-परेशान …

Read More »

रेत पर अमरूद की खेती कर कृषि को नया आयाम देते किसान

harinath sah

अर्थव्यवस्था का मेरुदंड है कृषि और किसान खेती किसानी अर्थव्यवस्था का मेरुदंड है. प्रत्येक देश का विकास कृषि उत्पादन पर निर्भर है. महामारी के दौरान खेती किसानी ही भारत की बड़ी आबादी के लिए ईंधन का काम किया है. अच्छे मौसम की वजह से रबी और खरीफ फसलों का उत्पादन भी बेहतर हुआ है. यह जरूर है कि सब्जियों और …

Read More »

कोविड कालखंड में किसान आंदोलन के निहितार्थ

Farmers Protest

Implications of the peasant movement in the Corona period किसान आंदोलन के छह महीने पूरे हो गये लेकिन सरकार की संवेदनहीनता ने सिद्ध कर दिया कि सरकार खेतिहर समाज के प्रति किस तरह की धारणा रखती है। सरकार के नुमाइंदे जो भी कह लें पर यह साफ हो गया है सरकार खेती-किसानी के लिए कुछ करने वाली नहीं है, इसलिए …

Read More »

पूरे प्रदेश में मनाया जाएगा 15 मार्च को कॉर्पोरेट विरोधी दिवस

Kisan Sabha

निजीकरण के खिलाफ होंगे प्रदर्शन रायपुर, 13 मार्च 2021. अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति और 500 से अधिक किसान संगठनों के साझे मोर्चे संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर छत्तीसगढ़ में भी छत्तीसगढ़ किसान आंदोलन और छत्तीसगढ़ किसान सभा सहित इससे जुड़े अन्य घटक संगठन 15 मार्च को कॉर्पोरेट विरोधी दिवस मनाएंगे और महंगाई और निजीकरण के खिलाफ जिलों …

Read More »

कृषि संकट से आंख चुराने वाला बजट — किसान सभा

Demonstrations held in many places in Chhattisgarh against anti-agricultural laws

छत्तीसगढ़ बजट 2021-22 : किसान सभा की प्रतिक्रिया Chhattisgarh Budget 2021-22: Response of Kisan Sabha रायपुर, 02 मार्च, छत्तीसगढ़ किसान सभा ने कांग्रेस सरकार द्वारा पेश बजट को किसानों के लिए निराशाजनक और कृषि संकट से आंख चुराने वाला बताया है। किसान सभा ने कहा है कि न्याय योजना के बावजूद प्रदेश में फिर किसान आत्महत्याएं शुरू हो चुकी हैं …

Read More »

किसानों को बंधक बनाने की साजिश रची है सरकार ने, मोदी सरकार में शामिल रही पार्टी का वार

Rashtriya Lok Samata Party

खेती-किसानी भी बाजार के हवाले करना चाहती है केंद्र सरकार : रालोसपा पटना, 21 फरवरी. राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (Rashtriya Lok Samata Party) ने केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खेती-किसानी भी बाजार के हवाले कर कारपोरेट घरानों को फायदा पहुंचाने की कोशिश में लगे हैं. रालोसपा ने राज्यव्यापी किसान चौपाल के बीसवें दिन कल …

Read More »

कृषि अधोसंरचना सुधार एवं विकास के कोई ठोस काम नहीं हुए मोदी कार्यकाल में

Narendra Modi flute

There was no concrete work for improvement and development of agricultural infrastructure in Modi’s tenure मोदी सरकार ने अपने लगभग छः-सात साल के कार्यकाल में देश के कृषि विकास एवं कृषि क्षेत्र के लिए ठोस अधोसंरचना सुधार एवं विकास की दिशा में कोई महत्वपूर्णं काम एवं पहल नहीं किया है। पुरानी नीतियों, योजनाओं, कार्यक्रमों एवं कानूनों को बदलने के सिवाय …

Read More »

योगी सरकार चीनी मिल मालिकों से मिलीभगत कर गन्ना किसानों से कर रही धोखाधड़ी, भूख हड़ताल पर बैठे अजीत यादव

Lok Morcha convenor Ajit Singh Yadav arrested

लोकमोर्चा संयोजक अजीत सिंह यादव ने जिला गन्ना अधिकारी कार्यालय पर भूख हड़ताल शुरू की  यदु शुगर मिल पर गन्ना किसानों के गन्ना बकाया के भुगतान, सूबे में गन्ना मूल्य घोषित करने और तीन कृषि कानूनों की वापसी को उठाई आवाज बदायूँ, 23 दिसम्बर, बदायूँ जनपद में यदु शुगर मिल (Yadu sugar mill in Badaun district) समेत चीनी मिलों पर …

Read More »

क्या बदलाव की एक नयी इबारत लिख पायेगा किसानों का यह आंदोलन ?

Agriculture Bill will destroy agriculture - Mazdoor Kisan Manch

Will this movement of farmers be able to write a new chapter of change? 2014 में भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन के प्रबल झंझावात के बल पर भाजपा/ एनडीए की सरकार बनी थी। उम्मीदें भी थीं, और गुजरात मॉडल का मायाजाल भी। नरेंद्र मोदी की क्षमता पर ज़रूरत से ज्यादा लोगों को भरोसा भी था। कांग्रेस का दस वर्षीय कार्यकाल खत्म हो …

Read More »

सात मिनट में जानिए क्या हैं खेती किसानी के अंतिम संस्कार के तीन कानून

Know in seven minutes, what are the three laws of funeral of farming

Know in seven minutes, what are the three laws of funeral of farming खेती किसानी की काशी करवट एक जमाने में बनारस में सीधे मोक्ष प्रदान कर सशरीर स्वर्ग भिजवा देने की भी एक डायरेक्ट कूरियर सर्विस हुआ करती थी। इतिहासकारों के अनुसार काशी के पण्डे भारी रकम लेकर बेवकूफ लोगों को पकड़कर उन्हें बुर्ज पर चढ़ा देते थे। वहां …

Read More »

देश विकास कर रहा है, तो लोग आत्महत्या करने पर मजबूर क्यों हो रहे हैं? गिरती जीडीपी का बढ़ती आत्महत्याओं से क्या संबंध

More than 50 bighas of wheat crop burnt to ashes of 36 farmers of village Parsa Hussain of Dumariyaganj area

गिरती अर्थव्यवस्था, बढ़ती किसान आत्महत्याएं : मध्यप्रदेश आगे, तो छत्तीसगढ़ भी पीछे नहीं If the country is developing, then why are people forced to commit suicide? किसी भी देश में आत्महत्या की दर (Suicide rate) उसके सामाजिक स्वास्थ्य का संकेतक (Indicator of social health) होती है। हमारे देश में राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (National Crime Records Bureau -एनसीआरबी) इसके विश्वसनीय …

Read More »