जानिए खाली पेट सुबह गुड़ खाने के फायदे

healthy lifestyle

Benefits of eating jaggery in the morning

कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी का एक वीडियो पिछले दिनों बहुत वायरल हुआ जिसमें वह कुछ महिलाओं से कहती सुनी जा रही हैं कि कितना गुड़ खिलाओगी, मेरा भाई कहता है कम खाया करो, मोटी हो रही हो। वैसे मीठा खाना हर किसी को पसंद होता है, लेकिन कई बार वजन बढ़ने के डर या मधुमेह (Diabetes) के चलते हम इसे खाने से परहेज करते हैं। लेकिन आप गुड़ खाकर भी मीठा खाने की अपनी चाहत पूरी कर सकते हैं।

गुड़ के औषधीय गुण (medicinal properties of jaggery)

गुड़ ना सिर्फ मिठास से भरा होता है, बल्कि इसमें कई औषधिय गुण भी होते हैं। ये आपको स्वस्थ रखने के साथ ही कई बीमारियों से से राहत दिलाता है।

दादी नानी कहती हैं कि हर सुबह खाली पेट गुनगुने पानी के साथ गुड़ खाकर आप स्वयं को स्वस्थ रख सकते हैं।

जानिए गुड़ के फायदे क्या हैं (what are the benefits of jaggery)

अगर आपको कब्ज की शिकायत रहती है, तो हर रोज इसे सुबह खाली पेट गुनगुने पानी के साथ गुड़ खाएं।

इसके अलावा गुड़ गैस या एसिडिटी से भी ये राहत दिलाता है। इससे पाचन भी बेहतर रहता है।

यदि आपको उच्च रक्तचाप की परेशानी है, तो इसको नियंत्रित करने में गुड़ मदद करेगा।

गुड़ खाने से आपको ताकत मिलती है और थकान की परेशानी खत्म होती है।

गुड़ में काफी मात्रा में आयरन मौजूद होता है। ये आपके शरीर में खून की कमी को पूरा करता है। अगर आपके शरीर में भी खून की कमी है, तो हर रोज इसे खाएं। ये रक्त संचार भी बेहतर बनाता है।

गुड़ में काफी मात्रा में कैल्शियम और फासफोरस होते हैं। ये आपकी हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। इसके अलावा, ये आपको जोड़ों के दर्द से भी राहत दिलाता है। इसके लिए आप गुड़ और अदरक मिलाकर खाएं।

हर रोज गुड़ खाने से आंखों की रोशनी बढ़ने में भी मदद मिलती है। इसके साथ ही, ये आपको माइग्रेन की परेशानी से राहत दिलाता है। इससे आपकी याद्दाश्त मजबूत होती है।

गुड़ अच्छा मूड बूस्ट है, यह आपके मूड को खुशनुमा बनाने में मदद करता है।

गुड़ को गुनगुने पानी के साथ खाकर आप अपनी पेट की चर्बी भी कम कर सकते हैं। ये आपका वजन घटाने में भी असरदार होता है बशर्ते कुछ महीनों तक खाली पेट इसका सेवन करें।

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में चिकित्सकीय परामर्श नहीं है। यह समाचारों में उपलब्ध सामग्री के अध्ययन के आधार पर जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई अव्यावसायिक रिपोर्ट मात्र है। आप इस समाचार के आधार पर कोई निर्णय कतई नहीं ले सकते। स्वयं डॉक्टर न बनें किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लें।)