सत्ताधारियों का गोडसेवादी हिंदुत्व न तो संतों की परंपरा का है और ना गांधी की

Mahatma Gandhi

आरएसएस का गोडसे प्रेम : गोडसे के भारत के सामने गांधी का भारत कमजोर पड़ रहा है. गांधी का भारत एकता, समावेशिता, स्नेह और करूणा पर आधारित है. आज के सत्ताधारियों द्वारा इन मूल्यों की अवहेलना की जा रही है

शासक तय करें वे गांधी के साथ हैं या गोडसे के – राम पुनियानी

Dr. Ram Puniyani - राम पुनियानी

एक ओर जहाँ प्रधानमंत्री राजघाट पर गांधी जी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं, वही उनके समर्थक ट्विटर पर गोडसे अमर रहे का हैशटैग ट्रेंड कर रहे हैं। (Godse Amar Rahe hashtag on Twitter)

पूछता है भारत : क्या आप अपनी संतान को गोडसे बनाना चाहेंगे ?

It is necessary to bring back the lost politics

संघ को रोल मॉडल की तलाश है। वह भगत सिंह, सरदार पटेल से लेकर सुभाष बाबू तक एक अदद रोल मॉडल की तलाश में भटक रहे हैं। वे अपने रोल मॉडल के खोखलेपन से भी परिचित हैं और भारतीय समाज की उनके प्रति अस्वीकार्यता का भी उन्हें पर्याप्त ज्ञान है।