मोदी सरकार की जन विरोधी नीतियों के खिलाफ माकपा का देशव्यापी अभियान कल से, 22 को होंगे पूरे प्रदेश में विरोध प्रदर्शन

CPIM

CPI-M’s nationwide campaign against anti-people policies of Modi government from tomorrow, protests across the state on 22 रायपुर, 16 सितंबर 2020. मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने मोदी सरकार की जन विरोधी नीतियों के खिलाफ पूरे देश में सप्ताहव्यापी अभियान चलाने का आह्वान किया है। इस अभियान को कोरोना संकट से निपटने के लिए आम जनता को

देश विकास कर रहा है, तो लोग आत्महत्या करने पर मजबूर क्यों हो रहे हैं? गिरती जीडीपी का बढ़ती आत्महत्याओं से क्या संबंध

More than 50 bighas of wheat crop burnt to ashes of 36 farmers of village Parsa Hussain of Dumariyaganj area

गिरती अर्थव्यवस्था, बढ़ती किसान आत्महत्याएं : मध्यप्रदेश आगे, तो छत्तीसगढ़ भी पीछे नहीं If the country is developing, then why are people forced to commit suicide? किसी भी देश में आत्महत्या की दर (Suicide rate) उसके सामाजिक स्वास्थ्य का संकेतक (Indicator of social health) होती है। हमारे देश में राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (National Crime

मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर कहा, कल्लूरी पर करें कार्यवाही

Government paid compensation to human rights activists

Human rights activists wrote a letter to the Chief Minister and said, take action on Kalluri रायपुर, 12 सितंबर 2020. हत्या के फर्जी मुकदमे से बरी होने और मानवाधिकार आयोग के निर्देश पर राज्य शासन से मुआवजा पाने वाले सभी छह मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने उम्मीद जाहिर की है कि उनकी तरह ही प्रताड़ित आदिवासियों और

भाजपा के रास्ते पर भूपेश बघेल की कांग्रेसी सरकार : भू-राजस्व संहिता में संविधानविरोधी और कॉर्पोरेटपरस्त बदलाव का विरोध किया किसान सभा ने

Bhupesh Baghel. (File Photo: IANS)

Kisan Sabha opposed anti-constitutional and corporate backward changes in Land Revenue Code रायपुर, 09 सितंबर 2020. छत्तीसगढ़ किसान सभा ने आदिवासियों की जमीन को गैर-आदिवासियों को सौंपने के लिए भू-राजस्व संहिता में संविधानविरोधी बदलाव लाने के लिए राज्य सरकार द्वारा उपसमिति गठित करने की तीखी निंदा की है। किसान सभा ने आरोप लगाया है कि

यूरिया संकट : गरीब किसानों के सामने इस सरकार ने यही रास्ता छोड़ा है कि वे खेती-किसानी छोड़ दें या फिर आत्महत्या का रास्ता अपनाएं

More than 50 bighas of wheat crop burnt to ashes of 36 farmers of village Parsa Hussain of Dumariyaganj area

छत्तीसगढ़ में यूरिया खाद का संकट | Urea crisis in Chhattisgarh हर साल की तरह इस साल भी छत्तीसगढ़ की सहकारी सोसाइटियों में यूरिया खाद की कमी (Shortage of urea fertilizer in cooperative societies of Chhattisgarh) हो गई है। गरीब किसान दो-दो दिनों तक भूखे-प्यासे लाइन में खड़े है और फिर उन्हें निराश होकर वापस

रायपुर, कोरबा,चांपा वायु : अध्ययन में विषाक्त भारी धातु के अधिक मात्रा में जहरीले छोटे कण मिले

Environment and climate change

प्रदूषण नियंत्रण के लिए तत्काल कार्रवाई का आह्वान Raipur, Korba, Champa Air: Study found toxic small particles of the high amount of toxic heavy metal; Call for immediate action for pollution control कोरबा / जांजगीर – चंपा / रायपुर 02 जून 2020 : कोरबा, चंपा और रायपुर में वायु गुणवत्ता की रेंज जनवरी से फरवरी

मोदी है तो मुमकिन है : “घंटा बजाने ताली बजाने बत्ती बुझाने दिया जलाने” के बावजूद हमारे देश में करोना संक्रमण की गति ज्यादा तेज

Mohan Markam State president Chhattisgarh Congress

लॉक डाउन 3 भी खत्म होने को आ गया है लेकिन केंद्र सरकार के पास कोई योजना ही नहीं है भारत में संक्रमण की दर चीन से भी तेज : मोहन मरकाम India’s infection rate faster than China: Mohan Markam चीन को 80000 संक्रमण संख्या होने में करोना की शुरुआत से 176 दिन लगे थे

तेलंगाना-छत्तीसगढ़ के बॉर्डर पर तीन दिनों से फंसे हैं झारखंड के 30 प्रवासी मजदूर : वहीं रास्ते में हो गई रवि मुंडा की मौत, हैदराबाद में मजदूरों को बनाया बंधक

30 migrant laborers from Jharkhand stranded at Telangana and Chhattisgarh border for three days

These news are presenting a black picture of our perverted politics and stifling system. रांची, 08 मई 2020. जहां पूरे विश्व में कोरोना की महामारी सुर्खियों में है, वहीं भारत में मजदूरों के बीच भूख का भय, बेरोजगारी की चिंता, अपनों से मिलने की बेताबी से पैदा हो रही अफरा—तफरी से उत्पन्न हो रहे माहौल

COVID19 का दुःसमय : कोरबा के कोयला समुदाय पहले से ही सामान्य से दोगुना अधिक सांस की बीमारियों से पीड़ित हैं

Coal

Korba’s coal communities suffer from twice the normal respiratory diseases in times of COVID19: SHRC Chhattisgarh कोविड-19 महामारी सारी दुनिया में कहर बरपा रही है, लेकिन एक हालिया अध्ययन में दावा किया गया है कि कोयला आधारित थर्मल पावर प्लांट के आसपास रहने वाले समुदाय इस महामारी का आसान शिकार हो सकते हैं। राज्य स्वास्थ्य

कृषि संकट से आंख चुराने वाला बजट – किसान सभा

Kisan Sabha

1000 रुपये प्रति हेक्टेयर की लागत पर कृषि भूमि को सिंचित करने का जादू करेगी भूपेश सरकार!! रायपुर, 03 मार्च 2020. छत्तीसगढ़ किसान सभा (Chhattisgarh Kisan Sabha) ने आज कांग्रेस सरकार द्वारा पेश बजट को किसानों के लिए निराशाजनक और कृषि संकट से आंख चुराने वाला बताया है। मंदी के दुष्प्रभावों के कारण प्रदेश में