Home » Tag Archives: जयशंकर प्रसाद

Tag Archives: जयशंकर प्रसाद

प्रकृति की सुंदरता को कविताओं में उतारने वाले कवि सुमित्रानंदन पंत

sumitranandan pant biography in hindi

सुमित्रानंदन पंत : व्यक्तित्व और कृतित्व (Sumitranandan Pant: Personality and Creativity) भारत माता ग्रामवासिनी खेतों में फैला है श्यामल धूल भरा मैला सा आँचल गंगा यमुना में आँसू जल, मिट्टी की प्रतिमा उदासिनी भारत माता ग्राम वासिनी और धरती का आँगन इठलाता शस्य श्यामला भू का यौवन अंतरिक्ष का हृदय लुभाता जौ गेहूँ की स्वर्णिम बाली भू का अंचल वैभवशाली …

Read More »

जयशंकर प्रसाद, भूमंडलीकरण और राष्ट्रवाद

jaishankar prasad, globalization and nationalism

Jaishankar Prasad, Globalization and Nationalism समय – फ्रांसिस फुकुयामा ने´इतिहास का अंत´ की जब बात कही थी तो उन्होंने ´एंड ऑफ दि स्पेस´ की बात कही थी, लेकिन हिंदी आलोचकों ने उसे गलत अर्थ में व्याख्यायित किया। सवाल यह है भूमंडलीकरण के कारण सारी दुनिया में ´स्पेस´का अंत हुआ या नहीं ॽ यही वह परिदृश्य है जिसमें आप भूमंडलीकरण को …

Read More »