29 नवंबर को झारखंड की राजधानी रहेगी गुलजार : देश के राजनीतिक दिग्गजों का होगा जमावड़ा

Hemant Soren

रांची, 28 दिसंबर 2019. शायद यह पहली बार है कि किसी मुख्यमंत्री की ताजपोशी, विपक्षी एकता के रूप में राष्ट्रीय चर्चे में है। कारण साफ है कि जिस तरह से राज्य के कार्यवाहक मुख्यमंत्री रघुवर दास के राजनीतिक गुरूर को विपक्षी एकता ने ध्वस्त किया, वह झारखंड के राजनीतिक इतिहास का पन्ना बन चुका है।

क्या है झारखंड की जनता को नयी सरकार से उम्मीद?

Hemant Soren

What do the people of Jharkhand expect from the new government? 30 नवंबर से 20 दिसंबर तक पांच चरणों में हुए विधानसभा चुनाव का परिणाम 23 दिसंबर को आ गया है। उम्मीद के अनुसार ही महागठबंधन (झामुमो-कांग्रेस-राजद) को स्पष्ट बहुमत (झामुमो-30, कांग्रेस-16, राजद-1) के साथ 81 सदस्यीय विधानसभा में 47 सीटें मिली हैं और सत्तासीन

रघुवर ने झारखंड को अपनी जागीर समझा : झारखंड में भाजपा की हार के मायने

Raghuvar Das

Raghuvar considers Jharkhand his fiefdom: the meaning of BJP’s defeat in Jharkhand रांची से विशद कुमार रघुवर दास ने झारखंड में भाजपा की करारी हार की जिम्मेवारी भले ही नैतिकता के आधार पर खुद ले ली है, मगर यह उनकी आत्मस्वीकृति है कि उन्होंने झारखंड को अपनी जागीर समझा और झारखंडी जनता को अपनी प्रजा।

झारखण्ड विधानसभा चुनाव : दूसरे चरण की 20 सीटें तय करेंगी, किसके सिर सजेगा मुख्यमंत्री का ताज

Politics

झारखण्ड विधानसभा चुनाव : दूसरे चरण की 20 सीटें तय करेंगी, किसके सिर सजेगा मुख्यमंत्री का ताज रांची से शाहनवाज़ हसन, 05 दिसंबर 2019. झारखंड विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण (Second phase of Jharkhand assembly election) में 20 सीटों पर सात दिसंबर को मतदान होना है। दूसरे चरण में विभिन्न दलों के 260 उम्मीदवार चुनाव