Home » Tag Archives: थाईलैंड

Tag Archives: थाईलैंड

रोग-बीमारी-त्रासदी पर बंद हो मुनाफाखोरी और आपदा में अवसर, जीवन रक्षक दवाओं पर अनिवार्य-लाइसेंस की मांग

Coronavirus Outbreak LIVE Updates, coronavirus in india, Coronavirus updates,Coronavirus India updates,Coronavirus Outbreak LIVE Updates, भारत में कोरोनावायरस, कोरोना वायरस अपडेट, कोरोना वायरस भारत अपडेट, कोरोना, वायरस वायरस प्रकोप LIVE अपडेट,

जीवन रक्षक दवाओं पर अनिवार्य-लाइसेंस की मांग जिससे कि जेनेरिक उत्पादन हो सके Experts demand compulsory licensing for generic production of a drug against Covid-19 ज़रा सोचे कि जीवन रक्षक दवा हर ज़रूरतमंद इंसान को मिलनी चाहिए कि नहीं? यदि दवा कंपनी के पास पेटेंट हो और कीमत इंसान की पहुँच के बाहर हो तब भी वैश्विक व्यापार संधि में …

Read More »

डॉ एम. महादेवप्पा : भारतीय कृषि-विज्ञान का पुरोधा

Madappa Mahadevappa, popularly known as Rice Mahadevappa

Dr M. Mahadevappa: Leader of Indian Agronomy नई दिल्ली, 12 मार्च (उमाशंकर मिश्र ): बीमारी की हालत में उसका उपचार करने वाले डॉक्टर को तो आप धन्यवाद देते हैं, और राशन लेने जाते हैं तो दुकानदार तक को थैंक्स बोलते हैं। पर, बीमारी से निजात दिलाने वाली दवा विकसित करने के लिए जिन वैज्ञानिकों ने दिन-रात एक कर दिया, उनको …

Read More »

बाज़ार-समाधान से ही हो रही हैं सड़कें असुरक्षित : बढ़ गयी है भारत में सड़क दुर्घटना मृत्यु दर

Road Safety

Market solutions will make roads unsafe for everyone. बढ़ गयी है भारत में सड़क दुर्घटना मृत्यु दर | Road accident death rate in India has increased भारत और अन्य 193 देशों ने सतत विकास लक्ष्य के तहत वादा तो किया था कि सड़क दुर्घटना मृत्यु दर (और उनमें होने वाली चोट और शारीरिक विकृति दर) में 2020 तक 50% की …

Read More »

भारत में ट्रांसजेंडर : सतत विकास के लिए लैंगिक समानता ज़रूरी

Gender equality is essential for sustainable development

बगिया के सभी फूल सुन्दर हैं : सतत विकास के लिए लैंगिक समानता ज़रूरी भारत में ट्रांसजेंडर की स्थिति २०११ की जनगणना के अनुसार, भारत में ४.९ लाख ट्रांसजेंडर हैं (जिनमें से मात्र ३०००० चुनाव आयोग में पंजीकृत हैं), लेकिन उनकी वास्तविक संख्या इससे कई गुना ज़्यादा अनुमानित है। भारत के सर्वोच्च न्यायालय द्वारा २०१४ में दिए गए ऐतिहासिक फैसले …

Read More »

कोविड-19 महामारी पर विराम लगाने के लिए स्थानीय नेतृत्व ज़रूरी

COVID-19 news & analysis

Local leadership needed to stop COVID-19 epidemic कोविड-19 महामारी ने यह स्पष्ट कर दिया है कि जब तक हर व्यक्ति के लिए स्वास्थ्य सुरक्षा नहीं होगी तब तक कोई भी संक्रमण-मुक्त नहीं हो सकता, भले ही वह सबसे अमीर या बड़े ओहदे पर आसीन व्यक्ति ही क्यों न हो. इस बात में भी कोई संशय नहीं रह गया कि मज़बूत …

Read More »

विटामिन बी3 के बारे में वो जानकारी जो आप नहीं जानते

Cancer news

विटामिन बी3, त्वचा कोशिकाओं को यूवी-प्रेरित कैंसर से बचा सकता है : शोध Vitamin B3 can protect skin cells from UV-induced skin cancer A form of vitamin B3 can protect skin cells from the effects of ultraviolet (UV) exposure which is the main risk factor for non-melanoma skin cancers, reveals new research. नई दिल्ली, 1 नवंबर 2020. एक नए शोध …

Read More »

गलवान घाटी : हिंद-प्रशांत में चीन अमेरिकी प्रतिद्वंद्विता व भारत

Modi Xi Jhoola

हिंद-प्रशांत में भारत चीन और अमेरिका : ऐसे समझें गलवान घाटी विवाद को | India, China and America in the Indo-Pacific: understand the Galwan Valley dispute like this. गलवान घाटी –2 हिंद-प्रशांत में चीन अमेरिकी प्रतिद्वंद्विता व भारत भारत-चीन के बीच जारी तनाव स्थलीय सीमा तक ही नहीं, हिंद महासागर और प्रशांत महासागर में भी फैला हुआ है। मुख्य प्रतिद्वंद्वता अमेरिका व …

Read More »

जलवायु परिवर्तन और महिला स्वास्थ्य में क्या है संबंध?

Environment and climate change

What is the relationship between climate change and women’s health? जलवायु परिवर्तन (Climate change) के हमले को झेलने में भारत समेत एशिया पैसिफिक क्षेत्र के देश सबसे आगे हैं। पिछले तीस वर्षों के दौरान दुनिया की 45% प्राकृतिक आपदाएँ (Natural disasters) – जैसे बाढ़, चक्रवात, भूकंप, सूखा, तूफान और सुनामी – इसी क्षेत्र में हुई हैं। हालांकि जलवायु परिवर्तन (Environment …

Read More »

जर्मन बुद्धिजीवियों ने पसंद किया प्रमोद रंजन का हस्तक्षेप पर प्रकाशित लेख

Pramod ranjan प्रमोद रंजन की दिलचस्पी सबाल्टर्न अध्ययन, आधुनिकता के विकास और ज्ञान के दर्शन में रही है। ‘साहित्येतिहास का बहुजन पक्ष’, ‘बहुजन साहित्य की प्रस्तावना’ और ‘शिमला-डायरी’ उनकी प्रमुख पुस्तकें हैं। उनके द्वारा संपादित दक्षिण भारत के सामाजिक-क्रांतिकारी ईवी रामासामी पेरियार के प्रतिनिधि विचारों पर केंद्रित तीन पुस्तकों का प्रकाशन हाल ही में हुआ है। रंजन इन दिनों असम विश्वविद्यालय के रवींद्रनाथ टैगोर स्कूल ऑफ लैंग्वेज एंड कल्चरल स्टडीज में प्राध्यापक हैं।

German intellectuals appreciate Pramod Ranjan’s article published on Hastakshep हस्तक्षेप में प्रकाशित प्रमोद रंजन के लेख “कोविड 19, विज्ञान और बुद्धिजीवियों की ज़िम्मेदारी” का जर्मन अनुवाद  “रूबिकॉन” ने प्रकाशित किया है। (यहां देखें) रूबिकॉन एक प्रतिष्ठित वेबपोर्टल है, जो पिछले कुछ वर्षों में जर्मनी में सत्ता प्रतिष्ठानों के खिलाफ एक मुखर बौद्धिक-दार्शनिक आवाज के रूप में उभरा है। इस वेबसाइट ने कोरोना …

Read More »

डॉ. राम पुनियानी से जानिए कहाँ जन्मे थे भगवान राम

डॉ. राम पुनियानी (Dr. Ram Puniyani) लेखक आईआईटी, मुंबई में पढ़ाते थे और सन्  2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं

Learn from Dr. Ram Puniyani where Lord Ram was born आगामी पांच अगस्त को उस स्थान पर राम मंदिर का निर्माण (Construction of ram temple) शुरू किया जाना प्रस्तावित है जहाँ एक समय बाबरी मस्जिद हुआ करती थी. इसी बीच, इस मुद्दे पर दो विवाद उठ खड़े हुए हैं. पहला यह कि कुछ बौद्ध संगठनों ने दावा किया है कि …

Read More »

चीन, मलेशिया, थाईलैंड में पाए जाने वाले विदेशी फल लौंगन की नई किस्म का भारत में विकास

longan fruit in hindi

Development of new variety of foreign fruit longan नई दिल्ली 13 जुलाई। लौंगन (Euphoria longan), जिसका वानस्पतिक नाम: Longan Arillus है, एक अद्भुत और स्वादिष्ट टॉनिक फल है जिसका उपयोग चीनी लोग एक रक्त टॉनिक के रूप में एनर्जी बढ़ाने, मन को शांत करने, प्लीहा को मजबूत करने, दिल की ऊर्जा को संशोधित करने और त्वचा की सुंदरता के लिए …

Read More »

दुनिया की आधी से अधिक आबादी वायु गुणवत्ता पर किसी सरकारी डेटा से वंचित

IAN SCHULER CEO / Development Seed / Washington, DC USA

नासा द्वारा समर्थित शोध : ‘‘खुला हुआ डेटा स्‍वच्‍छ वायु हासिल करने की दिशा में एक छोटा सा कदम है।’’ वॉशिंग्‍टन डीसी, लंदन . वॉशिंग्‍टन डीसी स्थित अंतरराष्‍ट्रीय एनजीओ ओपन एक्‍यू (International NGO OpenAQ) द्वारा जारी एक रिपोर्ट में दुनिया भर में वायु की गुणवत्‍ता से जुड़ी जानकारी (Information on air quality around the world) की उपलब्‍धता में बड़े पैमाने …

Read More »

सतत विकास के लिए आयु-अनुकूल व्यापक यौनिक शिक्षा क्यों है ज़रूरी?

Protecting the health & well-being of the young photo for hindi article

Protecting the health & well-being of the young एशिया पैसिफ़िक क्षेत्र (Asia and the Pacific region) के लगभग एक अरब युवा 10 से 24 वर्ष की आयुवर्ग के हैं, जो इस क्षेत्र की कुल आबादी का 27% है। इनमें से प्रत्येक को कभी-न-कभी अपने जीवन सम्बंधित ऐसे निर्णय लेने पड़ेंगे जिनका प्रभाव उनके यौनिक एवं प्रजनन स्वास्थ्य (Sexual and reproductive …

Read More »

इस रविवार “हमने तो बस्ती बोई थी, जंगल कैसे उग आया” बताएंगे लक्ष्मी शंकर वाजपेयी

Laxmi Shankar Bajpai Saahityik Kalrav

चराग़ों से कहो महफूज़ रखें अपनी-अपनी लौ उलझना है उन्हें कुछ सरफिरी पागल हवाओं से नई दिल्ली, 01 जुलाई 2020. हस्तक्षेप डॉट कॉम के यूट्यूब चैनल (Youtube channel of hastakshep.com) के साहित्य अनुभाग “साहित्यिक कलरव” पर जारी श्रंखला में इस रविवार ख्यातिप्राप्त साहित्यकार लक्ष्मी शंकर वाजपेयी (Laxmi Shankar Bajpai) अपना कविता पाठ करेंगे। यह जानकारी देते हुए हस्तक्षेप “साहित्यिक कलरव” …

Read More »

जानते हैं सामाजिक, आर्थिक और स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए सरकारी सेवाएँ क्यों हैं ज़रूरी?

Public Health Once and for all

Why are strong public services essential for social, economic and health security for all? दुनियाभर में कोरोनावायरस रोग (कोविड-19) महामारी ने हम सबको यह स्पष्ट समझा दिया है कि सरकारी स्वास्थ्य सेवा प्रणाली (Government healthcare system) में पर्याप्त निवेश न करने और उलट निजीकरण को बढ़ावा देने के कितने भीषण परिणाम हो सकते हैं. इसीलिए इस साल के संयुक्त राष्ट्र …

Read More »

सरोगेसी महिला शोषण का नया हथियार, इसे मानव तस्करी से भी जोड़कर देखें

Pregnant woman. (File Photo: IANS)

कानून विशेषज्ञ नगीना खान का आलेख | Women have always been considered second-rate हर रोज़ महिलाओं को किसी ना किसी तरह घर के भीतर या घर के बाहर शोषण का शिकार होना पड़ता है। सम्पूर्ण विश्व की आबादी में लगभग 49.59 प्रतिशत महिलाएं हैं फिर भी पुरुष प्रधान देश (Male dominated country) और पितृसत्ता की सोच (Patriarchy thinking) के लिहाज़ से …

Read More »

ट्रम्प वैश्विक लोकतंत्र को डुबो रहे हैं – सर्वे

Donald Trump

Trump is sinking global democracy खतरे में लोकतंत्र | democracy in danger इस सप्ताह 18 और 19 जून को दुनियाभर में लोकतंत्र के भविष्य पर एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन (An international conference on the future of democracy worldwide) आयोजित किया जा रहा है. कोविड 19 के दौर में यह सम्मेलन विडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये किया जाएगा, और इसे संबोधित करने वालों …

Read More »

जिंदगी में रखना ध्यान रक्त की कमी से न जाये किसी व्यक्ति की जान

World Blood Donor Day in Hindi

विश्व रक्तदान दिवस 14 जून पर विशेष – World Blood Donor Day special on 14 June 14 जून के दिन को ‘विश्व रक्तदान दिवस’ के रूप में विश्व के बहुत सारे देशों में बड़े पैमाने पर स्वैच्छिक रक्तदान करके मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य है कि किसी भी व्यक्ति के जीवन को बचाने के लिए अगर …

Read More »

इस्लाम ने शिक्षा को बताया कामयाबी की राह

imran khan and sheikh hasina

पाकिस्तान और बंग्लादेश इस्लामिक देश, एक ने आतंक को चुना तो दूसरे ने शिक्षा और विज्ञान। Pakistan and Bangladesh are Islamic countries, one chose terror and the other education and science. आधुनिक समाज में इस्लाम के बारे में सबसे बड़ी यह गलत धारणा (The biggest misconception about Islam in modern society) बन गई है कि ये एक आतंकवादी धर्म है …

Read More »

‘अनसुनी आवाज’: एक जरूरी किताब

Ansuni Awaz

एक अच्छा लेखक वही होता है (Who is a good writer) जो अपने वर्तमान समय से आगे की समस्यायों, घटनाओं को न केवल भांप लेता है बल्कि उसे अभिव्यक्त करते हुए पाठक को सजग करता है। मास्टर प्रताप सिंह (Master Pratap Singh) ऐसे ही लेखक व पत्रकार रहे हैं। वे ‘मास्टर साहब’ के नाम से लोकप्रिय रहे हैं। उधम सिंह …

Read More »

ट्रंप, शी और डॉ. टेडरस ने डब्ल्यूएचओ को बना दिया चीन-अमेरिका का अखाड़ा

World Health Organization WHO

Trump, Xi and Dr. Tedros made WHO the Sino-US arena Who was the first director general of the World Health Organization (WHO)? डॉ. जार्ज ब्रोक चेसोम (Dr George Brock Chisholm) जेनेवा स्थित विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के पहले डायरेक्टर जनरल बने थे। ‘वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन’ नाम भी इन्हीं का दिया हुआ था। उन्होंने स्पष्ट किया था कि यह संगठन पूरे …

Read More »