Home » Tag Archives: नवउदारवादी

Tag Archives: नवउदारवादी

पहले उन्होंने मुसलमानों को निशाना बनाया अब निशाने पर आदिवासी और दलित हैं

badal saroj

कॉरपोरेटी मुनाफे के यज्ञ कुंड में आहुति देते मनु के हाथों स्वाहा होते आदिवासी First they targeted Muslims, now the target is Adivasis and Dalits दो तथा तीन मई 2022 की दरमियानी रात मध्य प्रदेश के सिवनी जिले के गाँव सिमरिया (Village Simaria in Seoni district of Madhya Pradesh) में जो हुआ वह भयानक था। बाहर से गाड़ियों में लदकर …

Read More »

श्रीलंका के आर्थिक संकट का असली दोषी कौन?

international news in hindi hastakshep

Who is the real culprit of Sri Lanka’s economic crisis? श्रीलंका के संकट को भड़काने में क्या नवउदारवाद की भूमिका है? श्रीलंका के आर्थिक संकट पर इतना कुछ लिखा जा चुका है कि उससे संबंधित तथ्य काफी हद तक आम जानकारी में आ चुके हैं। मिसाल के तौर पर 22 अप्रैल के फ्रंटलाइन में प्रकाशित, सी पी चंद्रशेखर के लेख …

Read More »

रूस यूक्रेन युद्ध की पृष्ठभूमि और आहत मानवता का सवाल

what is the real reason behind russia ukraine dispute

रूस-यूक्रेन युद्ध पर परिचर्चा | Russo-Ukraine War Debate Vladimir’s Putin’s invasion of Ukraine has changed the world. We are living in new and more dangerous times नई दिल्ली, 21 मार्च 2022. रूस यूक्रेन युद्ध ने दुनिया के सामने नए संकट खड़े कर दिए हैं जिससे पूंजीवादी अन्तरविरोधों का शिकार एक देश आज तबाही की कगार पर पहुंच चुका है। आहत …

Read More »

अगस्त क्रांति और भारत का शासक वर्ग : आजादी की इच्छा का विस्फोट

opinion, debate

  (राम पुनियानी ने भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं सालगिरह के मौके पर – ‘हाउ टू रिवाइव द स्पिरिट ऑफ़ क्विट इंडिया मूवमेंट (‘How to Revive the Spirit of Quiet India Movement’)’ – (पीपल्स वोइस, 21 अगस्त 2017) लेख लिखा। लेख का हिंदी अनुवाद भी प्रकाशित हुआ। इस लेख में पुनियानी जी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा ‘मन की बात’ और …

Read More »

नवउदारवादी/वित्त पूंजीवादी व्यवस्था के घोड़े की गर्दन पर किसानों की गिरफ्त!

Farmers Protest

Peasants’ neo-liberal / finance capitalist gripped on horse neck! प्रत्येक व्यवस्था की अपनी अन्तर्निहित गतिकी (डाइनामिक्स) होती है, जिसके सहारे वह अपना बचाव और मजबूती करते हुए आगे बढ़ती है। भारत में निजीकरण-निगमीकरण (Privatization-corporatisation in india) के ज़रिये आगे बढ़ने वाली नवउदारवादी/ वित्त पूंजीवादी व्यवस्था, जिसे नव-साम्राज्यवाद की परिघटना (The phenomenon of neo-imperialism) से जोड़ा जाता है, भी इसका अपवाद …

Read More »