नागरिकता जी लपेटे में : मानो भारत लोकतंत्र नहीं, एक मंत्री संचालित तंत्र हो

Amit Shah Narendtra Modi

किसी ने दुरुस्त कहा है कि आजकल के राजनेताओं की राजनीति, मुद्दे का समाधान करने में नहीं, उसे जिंदा रखने से चमकती है। यदि समाधान करना होता, तो नागरिकता संशोधन पर जनाकांक्षा का एहसास होते ही त्रिदेशीय मजहबी आधार को तुरन्त हटाया जाता; नहीं तो सर्वदलीय बैठक या संसद का विशेष सत्र बुलाया जाता; नेता

नागरिकता पूछना ही भारतीयों का अपमान – अखिलेन्द्र

Akhilendra Pratap Singh

नागरिक बोध ही राष्ट्रवाद की पहचान Citizenhood is the hallmark of nationalism कृपाशंकर पनिका अध्यक्ष व तेजधारी मंत्री चुने गए ठेका मजदूर यूनियन का 17 वां जिला सम्मेलन पिपरी में हुआ Swami Vivekananda had said that one should not distinguish a refugee on the basis of religion. रेनूकूट, सोनभद्र, 13 जनवरी 2020, उस समय जब देश

यदि लोगों की नागरिकता संदिग्ध, तो मोदी सरकार भी अवैध : पराते

Guwahati News, Citizenship Act protests LIVE Updates, Anti-CAA protests, News and views on CAB,

If the citizenship of the people is doubtful, then Modi government is also illegal जगदलपुर, 11 जनवरी 2020। “यदि मोदी सरकार की नज़रों में देश के 130 करोड़ लोगों की नागरिकता संदिग्ध है, तो उनके वोटों से चुनी गई यह सरकार भी अवैध है और इसे सत्ता में बने रहने का कोई हक नहीं है।”