Home » Tag Archives: निर्मला सीतारमण का बजट भाषण

Tag Archives: निर्मला सीतारमण का बजट भाषण

लैंगिक बजट में कटौती : मोदी सरकार के ‘अमृतकाल’ में महिलाओं की कोई जगह नहीं

nirmala sitharaman

UNION BUDGET 2022-2023: NO PLACE FOR WOMEN IN MODI GOVERNMENT’S ‘AMRIT KAAL’ महामारी के बाद की स्थिति में भी महिलाओं की जिंदगी (Women’s life even in the post-pandemic situation) दोबारा पटरी पर लाने के लिए सरकार कोई खास पहल करती दिखाई नहीं दे रही। वित्तीय वर्ष 2021-22 में जेंडर बजट (Gender budget in the financial year 2021-22) का हिस्सा कुल …

Read More »

आओ, बजट-बजट खेलें

nirmala sitharaman

Aao, Budget-Budget Khelen बजट 2022-23 : व्याख्या तो होती है, पर बजट पर बहस नहीं होती नियमानुसार फरवरी सन् 2022 के पहले दिन भारत वर्ष की वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने लोकसभा में बजट पेश कर दिया। जब एक राष्ट्रीय अंग्रेजी दैनिक ने बजट के विभिन्न प्रावधानों की व्याख्या आरंभ की तो नैशनल बेस्टसैलर पुस्तक ” व्हाई …

Read More »

बजट 2022-23: आंकड़ेबाजी से देश को गुमराह करना, देश बेचना ही इनकी सबसे बड़ी उपलब्धि

nirmala sitharaman

Selling the country is their biggest achievement. केंद्रीय बजट 2022-23 पर प्रतिक्रिया | Feedback on Union Budget 2022-23 वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala sitharaman) ने जो आर्थिक सर्वेक्षण (economic survey) पेश किया, वह आंकड़ेबाजी से देश को गुमराह करने वाला है। महामारी की राजनीति से देश की अर्थव्यवस्था को जो भारी नुकसान हुआ है, उत्पादन प्रणाली जिस तरह ध्वस्त हो गयी …

Read More »

बजट से कॉरपोरेट मित्रों को होगा लाभ : भारतीय किसान यूनियन

Chaudhary Rakesh Tikait

The budget will not benefit the village poor farmer but corporate friends: Bharatiya Kisan Union किसान नेता राकेश टिकैत की केंद्रीय बजट २०२२-२३ पर प्रतिक्रिया | Farmer leader Rakesh Tikait’s reaction on Union Budget 2022-23 नई दिल्ली, 1 फरवरी 2022. केंद्रीय वित्त निर्मला सीतारमण द्वारा पेश किए गए आम बजट 2022-23 पर अपनी नाखुशी जताते हुए भारतीय किसान यूनियन ने …

Read More »

बजट 2020 : कवि, जिनका निर्मला सीतारमण ने हवाला नहीं दिया

Justice Markandey Katju

Budget 2020 :  The poets Nirmala Sitharaman did not cite जस्टिस मार्कंडेय काटजू, (भारत के सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश) केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने हालिया बजट भाषण में कई कवियों – कश्मीरी कवि दीनानाथ कौल नदीम, तमिल कवि तिरुवल्लुवर, संस्कृत कवि कालिदास आदि को उद्धृत करते हुए अपने पांडित्य का शानदार प्रदर्शन किया है। हालाँकि, मेरी समझता हूँ …

Read More »