Home » Tag Archives: पत्रकारिता

Tag Archives: पत्रकारिता

श्रीमान हम आपको इस आलेख के कोई पैसे नहीं दे सकते !

media

“श्रीमान हम आपको इस आलेख के कोई पैसे नहीं दे सकते। सहयोग के लिए सम्पादक के धन्यवाद सहित सादर।“ किसी स्वतंत्र पत्रकार के लिए उसके किसी आलेख पर यह जवाब अब आम हो चुका है। स्वतंत्र पत्रकार ही नहीं किसी न किसी संस्थान से जुड़े बहुत से पत्रकार भी कोरोना के दौरान अपनी नौकरी खोने के बाद अब उस दिन …

Read More »

सीपेजी ने जारी की चुनावों पर काम कर रहे पत्रकारों के लिए पत्रकार सुरक्षा गाईड

Press Freedom

CPJ released Journalist Safety Guide for Journalists working on elections CPJ की ओर से भारतीय राज्यों के चुनावों पर काम कर रहे पत्रकारों के लिए सुरक्षा गाईड पत्रकार सुरक्षा गाईड कई भाषाओं में उपलब्ध है न्यूयॉर्क, 08 मार्च, 2021- असम, केरल, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और पुदुच्चेरी में होने जा रहे राज्यसभा चुनावों और उनसे पहले होने वाली गतिविधियों पर काम …

Read More »

बहुत ही स्वाभिमानी और सशक्त व्यक्तित्व के स्वामी हैं मशहूर गीतकार संतोष आनंद

Santosh Anand Live

मशहूर गीतकार संतोष आनंद 21/02/2021 को इंडियन आइडल के शो (Famous lyricist Santosh Anand on Indian Idol show on 21/02/2021) पर आए थे। वह अपनी ज़िंदगी से जुड़े कुछ भावुक पल दर्शकों के साथ साझा करते हुए भावुक हो गए। गायिका नेहा कक्कड़ (Singer Neha Kakkar) ने भेंट स्वरूप 5 लाख रुपए देने को कहा तो संतोष जी ने कहा, …

Read More »

अधिक खतरनाक होता है कम वेतन पाने वाला पत्रकार

media

Low paid journalist is more dangerous : Vijay Shankar Singh पत्रकारों को कम वेतन नहीं देना चाहिए। कम वेतन पाने वाला पत्रकार अधिक खतरनाक हो सकता है। कभी यह रोचक निष्कर्ष निकाला था, पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति जॉन एफ केनेडी ने। कार्ल मार्क्स पर उनकी यह एक रोचक टिप्पणी है। यह कथन जॉन एफ केनेडी के ओवरसीज प्रेस क्लब न्यूयॉर्क में …

Read More »

गांधी अब ओटीटी पर भी दिखने चाहिए : अजय ब्रम्हात्मज

Mahatma Gandhi

एक दिवसीय वेबिनर में बोले फिल्म समीक्षक अजय अजय ब्रम्हात्मज, गांधी सिनेमा से कभी नहीं होंगे ख़ारिज़ महात्मा गांधी की 73वीं पुण्य तिथि पर जनसंचार विभाग ने किया याद, महात्मा गांधी और हिन्दी सिनेमा पर हुई परिचर्चा मंदसौर विश्वविद्यालय ने बापू को किया याद, पत्रकारिता विभाग ने आयोजित किया हिन्दी सिनेमा और महात्मा गांधी पर वेबिनार देश और दुनियाँ के …

Read More »

संभव है उद्यम से उन्नति, जानिए कैसे

motivational article

Sambhav Hai Udyam Se Unnati: motivational article in Hindi जब मैं इकनॉमिक टाइम्स (Economic Times), बिजनेस स्टैंडर्ड या योर स्टोरी में पढ़ता हूं कि फलां-फलां स्टार्ट-अप कंपनी (start-up company) को 20 करोड़ की सीड फंडिंग मिल गई या फंडिंग के दूसरे राउंड में फलां-फलां कंपनी ने लाखों डालर की धनराशि प्राप्त की है तो मुझे बहुत खुशी होती है। अक्सर …

Read More »

जनसरोकारी विमर्श एवं पत्रकारिता के पुरोधा और प्रणेता थे ललित सुरजन

Lalit Surjan

Lalit Surjan was the leader and pioneer of public advocacy and journalism भारतीय मीडिया और विशेषकर अविभाजित मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ की पत्रकारिता जगत के लिए ललित सुरजन जी का अवसान एक ऐसी क्षति है, जिसकी भरपाई हाल-फिलहाल में सालों तक मुश्किल दिखती है। ललित सुरजन लोकतांत्रिक, जनसरोकारी पत्रकारिता के लिए केवल एक पुरोधा, मार्गदर्शक ही नहीं रहे, बल्कि अपनी वैचारिक, …

Read More »

हिन्दू-मुस्लिम एकता और आज़ादी के नायक – मौलाना मोहम्मद अली जौहर

मौलाना मोहम्मद अली जौहर { Muhammad Ali Jauhar (10 December 1878 – 4 January 1931), also known as Maulana Mohammad Ali Jauhar (Urdu: مَولانا مُحمّد علی جَوہر), }

Maulana Mohammad Ali Jauhar – the hero of Hindu-Muslim unity and freedom 10 दिसंबर मौलाना मोहम्मद अली जौहर की जयंती पर विशेष : 10 December special on the birth anniversary of Maulana Mohammad Ali Jauhar “दौर-ए-हयात आएगा क़ातिल क़ज़ा के बाद, है इब्तिदा हमारी तिरी इंतिहा के बाद।” मौलाना मोहम्मद अली जौहर { Muhammad Ali Jauhar (10 December 1878 – …

Read More »

शिमला डायरी : पीछे छूट गई धूल को समेट लाया कौन खानाबदोश

Shimla diary Book by Pramod Ranjan

‘शिमला डायरी’ (Shimla diary) अपने समय और समाज की एक ऐसी साहित्यिक-सांस्कृतिक डायरी और दस्तावेज है, जिसका एक अहम हिस्सा हिंदी पत्रकारिता (Hindi journalism) की दुनिया है। इसका विहंगम अवलोकन किया है चर्चित कवि और पत्रकार प्रमोद कौंसवाल (journalist Pramod Kaunswal) ने, जिन्होंने काफी समय तक चंडीगढ़ में रहते हुए खुद शिमला, चंडीगढ़ और पंजाब की पत्रकारिता की दुनिया को बहुत …

Read More »

समयांतर का जून अंक और पंकज बिष्ट का लेख इसका बच्चस, उसका बच्चा?

June issue of Samayantar and article by Pankaj Bisht

June issue of Samayantar and article by Pankaj Bisht साहित्य और पत्रकारिता की क्या भूमिका होनी चाहिये (What should be the role of literature and journalism), इसे समझने के लिए युवाजनों को यह अंक जरूर पढ़ना चाहिए। 2000 से मैं लगातार लिखता रहा हूँ समयांतर में। माननीय प्रभाष जोशी और ओम थानवी की परवाह न करते हुए जनसत्ता की नौकरी …

Read More »

तुम इतराते रहे हो अपने शहरी होने पर जनाब! काश! हम भी गाँव वापस लौट पाते

Rupesh Kumar Singh Dineshpur

कोरोना काल से- गुफ्तगू/पैदल रिपोर्टिंग “शहर रहने लायक बचे नहीं हैं। छोटे कस्बे और गाँव ही मुफ़ीद हैं। काश! हम भी गाँव वापस लौट पाते।” जाने-माने कवि मदन कश्यप जी कल पलाश विश्वास जी से मोबाइल पर बतिया रहे थे। बोले, “दिनेशपुर तराई का सबसे अच्छा इलाका है, वहीं किराये पर कमरा दिला दो।” मैं गुफ्तगू सुनकर मुस्कुरा भर दिया। …

Read More »

क्या पत्रकारिता करने के लिये हमें इस स्तर तक गिरना होगा !

Desh ka dushman media

मीडिया की गिरती साख दोषी कौन, कैसे बनी रहे मीडिया की विश्वसनीयता आज सुबह आंख खुलते ही दो पत्रकार साथियों के द्वारा भेजे गये मैसेज को पढ़ता हूँ। पहला संदेश देवघर जिला के मधुपुर के पत्रकारों (Journalists of Madhupur in Deoghar district) का होता है जिसमें दो पत्रकारों के ऊपर मधुपुर थाना में FIR दर्ज होने की जानकारी दी जाती …

Read More »

पत्रकारिता का पतनकाल : दैनिक जागरण ने शराब की खबर के साथ लगा दी अखिलेश यादव की तस्वीर ट्रेंड हो रहा #दैनिक_जागरण_का_पूर्ण_बहिष्कार

Akhilesh Yadav with Sunil Singh of Hindu Yuva Vahini

Decline of journalism इलाहाबाद। दैनिक जागरण में शराब की खबर के साथ पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की तसवीर लगाए जाने से सपा कार्यकर्ता आगबबूला हैं, इसके बाड ट्विटर पर दैनिक_जागरण_का_पूर्ण_बहिष्कार ट्रेंड हो रहा है। समाजवादी पार्टी के नेताओं ने दैनिक जागरण अखबार को चेतावनी दी है कि वह शराब की खबर के साथ पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की तसवीर लगाए …

Read More »