पत्रकारिता की गिरती साख और गरिमा को अगर कोई बचा सकता है तो वे हैं आंचलिक पत्रकार

Press Freedom

आंचलिक पत्रकार और पत्रकारिता की गिरती साख Declining credibility of journalism AND regional journalist आंचलिक पत्रकारों के बिना आप समाचार पत्र एवं न्यूज़ चैनलों की कल्पना नहीं कर सकते। अखबार एवं चैनल में 70 प्रतिशत आंचलिक पत्रकारों की बदौलत ही सुर्खियां बनती हैं। आंचलिक पत्रकार पत्रकारिता की रीढ़ होते हैं जिसके बिना कोई भी समाचार

माल्या-अडानी के लिए पैसा है, किसान के लिए नहीं- पी साईनाथ

P Sainath at Varanasi

माल्या-अडानी के लिए पैसा है, किसान के लिए नहीं- पी साईनाथ वाराणसी, 29 नवंबर 2019। देश के जाने-माने पत्रकार पी.साईंनाथ ने इस बात पर चिंता जताई है कि भारत में किसानों की आमदनी तेज़ी से कम हो रही है। किसान अपने ही खेतों में मज़दूर की तरह हो गए हैं जो कॉरपोरेट के फ़ायदे के